जमीन दिलाने के नाम पर सेवानिवृत्त कर्नल से 15 लाख की ठगी

देहरादून में जमीन दिलाने के नाम पर ठगी के मामले बढ़ते जा रहे है। इसलिए जमीन/मकान खरीदते समय सतर्क रहें। जनपद में ठगों का नेटवर्क फैला हुआ है, जो जमीन दिलाने के नाम पर लोगों के मेहनत की कमाई को साफ कर दें रहे हैं। ऐसा ही द्वारिका राजपथ नगर दिल्ली निवासी सुमिता खत्री पत्नी कर्नल (रिटा.) रमेश खत्री के साथ भी हुआ। जमीन दिलाने के नाम पर 15 लाख की ठगी की गई। अब ना ज़मीन मिल रही और ना ही पैसा, जिसके बाद उन्हें थाने के चक्कर लगाने पड रहे हैं।

जमीन दिलाने के नाम पर 15 लाख की ठगी

पुलिस को दी शिकायत में उन्होंने बताया कि उन्होंने कांता देवी और उनके बेटे अजय कुमार से देहरादून के चंदन नगर से एक प्लाट खरीदा था। विश्वास में लेकर आरोपितों ने सुमिता खत्री से 8 जून 2019 को 15 लाख रुपए लेकर 21 दिसंबर 2019 तक रजिस्ट्री करवाने को कहा था। जब वह प्लांट की पैमाईश करने गए तो उसका क्षेत्रफल कम पाया गया। इस बात को लेकर उन्होंने संपर्क किया तो आरोपियों ने धमकी देते हुए कहा कि, जितनी जमीन मिल रही है, उतनी ही लेनी पड़ेगी।

7 दिसंबर को अधिवक्ता के माध्यम से जब उन्होंने आरोपितों को नोटिस भेजा तो उन्होंने रुपए नहीं होने तथा कुछ समय देने को लेकर ज़बाब दिया। 28 दिसंबर 2019 को गारंटी के तौर पर पीड़ित पक्ष को ₹1500000 का चेक दिया गया और 31 दिसंबर 2020 तक रजिस्ट्री कराने की बात कही थी और साथ में यह भी कहा गया था कि उक्त तिथि तक यदि रजिस्ट्री नहीं होती, तो चेक को बैंक में लगाकर अपनी धनराशि प्राप्त कर सकते हैं।

घर पहुंचने पर किया दुर्व्यवहार

इसी बीच जुलाई 2020 में अजय कुमार का निधन हो गया। जब सुमिता अपने पति के साथ वहां शोक व्यक्त करने पहुंची तो कांता देवी विजय मित्तल और टीना मित्तल ने उन्हें विश्वास दिलाया कि उनकी धनराशि वापस मिल जाएगी। इसी बीच 22 सितंबर को सुमिता को पता चला कि कांता ने प्लाट में से अपना भाग बेटे विजय मित्तल को उपहार पत्र के माध्यम से दे दिया है। 26 सितंबर 2021 को जब वह आरोपितों के घर पहुंचे तो उन्होंने अंदर नहीं आने दिया और दुर्व्यवहार किया। शहर कोतवाल कैलाश चंद्र भट्ट ने बताया कि आरोपित कांता देवी, विजय मित्तल और टीना मित्तल निवासी चंदन नगर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

यह भी पढ़ें- देहरादून: जमीन दिलाने के नाम पर दस लाख की ठगी, 4 लोगों पर मुकदमा दर्ज

Leave a comment

Your email address will not be published.