सीरियल अनुपमा (Anupama) में जहां एक ओर किंजल के गोद भराई का सीक्वेंस चल रहा है तो वही शाह हाउस में पहुंची बरखा और राखी दवे खुद में एक दुसरे को अनुपमा के खिलाफ़ भड़का रहे थे।

बरखा को फोन पर बात करते देख जब राखी दवे ने बरखा से बात करते हुए कहा उसने सुना है कि कपाड़िया साम्राज्य अब अनुपमा के नाम पर है, क्या तुम्हें ये अजीब नहीं लगता है की जेठानी के रहते हुए घर की चाबी देवरानी के पास। जिसपर बरखा का कहना हैं की ये चीजें कैसे मायेने रखता हैं। जिसपर राखी कहती हैं की ये मायने रखती हैं की कैसे अनुपमा अपने पति के पास रहते भी अपने पुराने परिवार से भी बात करती थी।

जिसपर बरखा इन बातों पर ध्यान नहीं देती हैं। इसके बाद दूसरी तरफ किंजल के गोद भराई का सीक्वेंस शुरू होता है जिसमें एक गेम खेला जाता हैं जिसमें ये देखा जाएगा की बच्चे को हर किसी से क्या मिलना या लेना चाहिए। जिसपर किंजल कहती हैं कि बच्चे को अनुपमा के मनोबल मिलनी चाहिए।

जिसपर अनुपमा कहती हैं की बच्चे को बच्चे को नाना और नानी दोनों का प्यार मिलना चाहिए और किंजल को समझाती है कि राखी ने किंजल के साथ समय बिताने के लिए उसे बेहतर जीवन देने के लिए बलिदान दिया, आदि।राखी भावुक हो जाती है, लेकिन फिर सोचती है कि अनुपमा ने उसे भी अपने आकर्षण में ले लिया। जिसके बाद बरखा राखी को पानी देती हैं और एक दुसरे को देखकर मुस्कराते हुए हाथ मिलाते हैं।