Anupama Written Update 6th August 2022: टीवी सीरियल अनुपमा में छोटी अन्नू अपने हाथो से राखी बनाती हैं। जिसे देखकर अनुपमा खुश हो जाती हैं। छोटी अन्नू बताती हैं की ये उसने आश्रम से बनाना सीखा है। जिसपर अनुज कहता हैं की अगर उसे अपने दोस्तों या आश्रम के लिए कुछ भेजना है तो वो भेज सकती हैं।

[evp_embed_video url=”https://www.hindulive.com/wp-content/uploads/2021/12/Facebook_video.mp4″ ratio=”4:3″]

जिसपर अन्नू कहती हैं की वो पूरे शाह परिवार के अलावा अनुज और अनुपमा के लिए भी कुछ बनाएगी। जिसपर अनुज पूछता है कि वो उनके लिए क्यों बनाएगी तो उसके जवाब में छोटी अन्नू कहती हैं की नानू पापा ने सिखाया है की राखी हम उसे बांधते हैं जो हमारी रक्षा करता हैं।

वहीं दूसरी तरफ शाह हाउस में वनराज कहता हैं आज जो कुछ भी हुआ उसे भूलकर राखी का त्यौहार मनाए। उसका कहना है कि बच्चे गलती करते हैं और फिर रोते हैं।पाखी के डिप्रेशन में जाने से पहले उन्हें इस विषय पर चर्चा करना बंद कर देना चाहिए । जिसपर लीला उसका सपोर्ट करती हैं।

शाह और कपाड़िया हाउस में रक्षा बंधन का त्यौहार मनाया जाता हैं जिसके लिए कान्हा जी की पूजा भी की जाती हैं । जिसमें एक तरफ़ छोटी अन्नू कान्हा जी को राखी बांधती नज़र आती हैं तो दूसरी ओर पाखी। वही अंकुश इस चिंता में नज़र आता हैं की आखिर अनुज ऐसा क्या अनाउसमेंट करने वाला है।

लीला, डॉली और पाखी जिग्नेश, वनराज और तोशु को राखी बांधती हैं। किंजल समर का इंतजार करती है। लीला कहती है कि शायद उसकी ट्रेन लेट हो गई है। तोशु कहते हैं कि जब भी वह आएंगे वे उन्हें राखी बांधेंगे। डॉली रोती है और कहती है कि 26 साल से त्योहार के दौरान भाभी घर पर नहीं है। वह कहती है कि उन्होंने अनुपमा को अपमानित करके और घर से बाहर भेजकर गलत किया, अनुपमा के बिना जश्न मनाना अच्छा नहीं लगता।

वनराज कहते हैं कि यह जरूरी नहीं है कि कुछ चीजें सालों तक चलती रहें, कपाड़िया परिवार अब अनुपमा का परिवार है। पाखी का कहना है कि दोनों परिवार अनुपमा के हैं, वे खुशी-खुशी एक साथ त्योहार मनाते अगर वनज ने उसे अनुपमा का अपमान करने से नहीं रोका होता। डॉली कहती है कि अगर अनुपमा यहां नहीं आ सकती तो वह अनुपमा से मिलने जाएगी।

वनराज कहताक कल जो हुआ उसे सुनकर भी जिसपर काव्या कहती है तो क्या हुआ अनुज ने अनुपमा को यहाँ आने से रोका, लेकिन वे वहां जा सकते हैं और त्योहार रिश्तों के बीच के मतभेदों को समेटने का सबसे अच्छा साधन है। वह पाखी से पूछती है कि क्या उसे अब अपनी गलती का एहसास हुआ है, क्या वह चाहती है कि त्योहार अधूरा रहे।

उधर समर छोटी अन्नू के लिए बड़ा सा टैडी लेकर पहुंचता है। और एक दूसरे को राखी बंधता है।