धामी सरकार का बड़ा फैसला: उत्तराखंड में अब बिना अनुमति नहीं निकाल पाएंगे धार्मिक जुलूस

लंबे समय से सीएम पुष्कर सिंह धामी के उपचुनाव को लेकर चल रहे सस्पेंस आखिरकार खत्म हो गया। चंपावत विधायक कैलाश गहतोड़ी काफी पहले ही मुख्यमंत्री धामी के लिए सीट खाली करने का एलान कर चुके थे और आज उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष को इस्तीफा सौंप दिया है। अब यह साफ हो गया है कि सीएम पुष्कर सिंह धामी चंपावत सीट से उपचुनाव लड़ेंगे।

यह भी पढ़ें- उत्तराखंड: पुष्कर सिंह धामी होंगे नए मुख्यमंत्री, परेड ग्राउंड में होगा शपथ समारोह

दरअसल 2022 विधानसभा चुनाव में भाजपा ने दो तिहाई बहुमत तो हासिल कर लिया लेकिन सीएम दावेदार पुष्कर सिंह धामी अपनी सीट बचाने में नाकामयाब रहे और खटीमा से कांग्रेस के भुवन कापड़ी ने उन्हें करीब 5000 वोटों से हराया। जिसके बाद भाजपा ने धामी पर विश्वास जताते हुए दुबारा सत्ता की कमान सौंपी। जिसके बाद भाजपा के करीब 8 विधायकों ने धामी के लिए सीट छोड़ने की पेशकश की थी, जिनमें एक चंपावत के विधायक कैलाश गहतोड़ी भी थे।

मुख्‍यमंत्री बनने के बाद सबसे बड़ा सवाल यह था कि सीएम पुष्कर सिंह धामी किस सीट से उपचुनाव लड़ेंगे। मुख्‍यमंत्री पुष्‍कर सिंह धामी को छह महीने के भीतर विधानसभा का सदस्य बनना जरूरी है। ऐसे में सभी के मन में यह सवाल उठ रहा था कि धामी किस सीट से उपचुनाव लड़ेंगे। मुख्यमंत्री बनने के बाद धामी ने सबसे पहले चंपावत का दौरा किया था, जिसके बाद यह अटकलें लगाई जा रही थी कि वह चंपावत सीट से उपचुनाव लड़ेंगे।

चंपावत सीट से उपचुनाव लड़ेंगे पुष्कर धामी

चंपावत सीट से भाजपा विधायक कैलाश चंद्र ग्रह गहतोड़ी ने गुरुवार सुबह विधानसभा अध्यक्ष के यमुना कॉलोनी स्थित सरकारी आवास पर उन्हें अपना इस्तीफा सौंपा है। जिसे विधानसभा अध्यक्ष द्वारा स्वीकार कर लिया। इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष ने प्रेस को संबोधित करते हुए कैलाश चंद्र गहतोड़ी के इस्तीफे को स्वीकार करने की घोषणा की। अब ये साफ हो गया कि सीएम पुष्कर सिंह धामी चंपावत विधानसभा सीट से ही चुनाव लड़ेंगे।