चंपावत: सही समय पर इलाज ना मिलने से 11 वर्षीय बच्चे की मौत

उत्तराखंड के चंपावत जनपद से दुखद खबर आ रही है जहां ततैयों ने एक ग्यारह वर्षीय युवक को काट दिया था, जिसके बाद परिजन उसे जिला अस्पताल लेकर आए। चिकित्सकों ने बच्चे को हल्द्वानी रेफर किया गया लेकिन टनकपुर-पिथौरागढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग बंद होने की वजह से परिजनों को बनलेख से वापस लौटना पड़ा और बच्चे को लोहाघाट उपजिला चिकित्सालय में वापस लाए, जहां बच्चे की मौत हो गई।

यह भी पढ़ें- चंपावत: तिरंगा रैली निकाल रहे छात्र को कैंटर ने रौंदा, मौत

जानकारी के अनुसार चंपावत जनपद के बडोली निवासी सुरेश चंद्र थ्वाल वर्तमान में परिवार के साथ खटकना पुल के समीप किराए पर रहते हैं। उनका 11 वर्षीय बेटा रितिक थ्वाल प्राइमरी स्कूल में कक्षा पांच का छात्र था। शनिवार शाम करीब पांच बजे वह अपने दोस्तों के साथ घर में खेल रहा था और इसी दौरान ततैयों ने उसे काट दिया।

घटना की सूचना मिलते ही परिजन उसे जिला अस्पताल ले गए, जहां प्राथमिक उपचार देने के बाद सुशीला तिवारी अस्पताल हल्द्वानी के लिए रेफर किया गया, परंतु स्वाला में मलबा आने की वजह से टनकपुर-पिथौरागढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग बंद हो गया था, जिसकी वजह से परिजनों ने रितिक को बनलेख से वापस लाया गया और लोहाघाट उप जिला अस्पताल ले गए, जहां बच्चे की मौत हो गई। घटना से मृतक के परिवार में कोहराम मचा हुआ है।