चंपावत उपचुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, प्रदेश उपाध्यक्ष ने बेटे समेत दिया इस्तीफा

उत्तराखंड की पांचवीं विधानसभा चुनाव में करारी हार के बाद कांग्रेस पार्टी के भीतर अंर्तकलह खत्म होती नहीं दिख रही है। भले ही पार्टी ने प्रदेश संगठन में बदलाव कर दिया लेकिन प्रदेश संगठन नाराज़ नेताओं को मनाने में कामयाब नहीं हो पा रहें। हार के बाद कांग्रेस के कई नेताओं ने इस्तीफा दे दिया, वहीं कांग्रेस हाईकमान ने विधानसभा चुनाव के बाद करण माहरा को कांग्रेस के नए प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी लेकिन कांग्रेस पार्टी में अंर्तकलह खत्म नहीं हो पा रहा है। इसी बीच खबर आ रही है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और उत्तराखंड कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष रहे जोत सिंह बिष्ट नै अपने बेटे समेत पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है।

यह भी पढ़ें- उत्तराखंड: चंपावत सीट से पुष्कर सिंह धामी उम्मीदवार घोषित

पार्टी के वरिष्ठ नेता जोत सिंह बिष्ट बीते 20 सालों से कांग्रेस में प्रदेश उपाध्यक्ष के पद पर काबिज थे। 2022 विधानसभा चुनाव में वह कांग्रेस के टिकट पर धनौल्टी विधानसभा सीट से चुनाव लड़ें थे जहां से उन्हें हार का सामना करना पड़ा। चुनाव के बाद से ही वह पार्टी में भितरघात को लेकर शिकायत करते रहे लेकिन उनकी अब तक कोई भी सुनवाई नहीं हुई है। जिससे नाराज होकर उन्होंने पार्टी छोड़ने का फैसला लिया है। इस्तीफा देने के बाद जोत सिंह बिष्ट ने कहा कि कुछ कांग्रेस नेताओं ने खुलेआम चुनाव के दौरान भाजपा प्रत्याशी का समर्थन किया गया। जोत सिंह के साथ ही उनके बेटे हिम्मत सिंह बिष्ट ने भी कांग्रेस छोड़ दी है।

आपको बता दें कि चंपावत विधानसभा सीट पर विधायक कैलाश गहतोड़ी का इस्तीफा देने के बाद उपचुनाव होना है। भाजपा केंद्रीय चुनाव समिति ने चंपावत सीट पर होने वाले उपचुनाव के लिए एकमात्र दावेदार पुष्कर सिंह धामी के नाम पर स्वीकृति प्रदान कर दी है। चंपावत विधानसभा सीट पर 31 मई को मतदान होगा और 4 जून को नतीजे आएंगे। वहीं अभी तक कांग्रेस अपना उम्मीदवार घोषित नहीं कर सकी है। ऐसे में वरिष्ठ नेता जोत सिंह का कांग्रेस का साथ छोड़ना पार्टी के लिए परेशानी खड़ी कर सकता है।