देहरादून की मस्जिद के बगल में रोज कटती गाय
प्रतीकात्मक चित्र

उत्तराखंड की गणना यूं तो भारत के शांत प्रदेशों में की जाती है, लेकिन बीते कुछ सालों से बदलते डेमोग्राफिक बदलाव की वजह से उत्तराखंड की आवोहवा दूषित हो रही है। देवभूमि उत्तराखंड में जिस गाय की पूजा की जाती, यहां तक कि गाय को उत्तराखंड में राष्ट्र माता का दर्जा दिया गया है लेकिन गंदी मानसिकता वाले लोग देवभूमि को शर्मशार करने में लगे हुए हैं। खासकर राजधानी देहरादून में आए दिन गोमांस मिलने की खबरें आती रहती है। हाल मे ही एक देहरादून के आईटी पार्क के जंगल में गाय के कटे अवशेष बरामद हुए थे और उसके कुछ दिन बाद एक कबाड़ी की दुकान पर गोमांस से भरे बैग बरामद हुए थे। राजधानी देहरादून में यह सब कानून की नाक के नीचे हो रहा लेकिन ऐसे लोगों पर क्या कार्रवाई होती, उसका आज तक कोई पता नहीं चला। ऐसा ही एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें दिलशाद नामक युवक कह रहा कि देहरादून के मियां वाला में मस्जिद के पास कसाई खाने में गाय रोज कटती है और 240 रुपए किलो बिकता है।

यह भी पढ़ें- देहरादून: कबाड़ी की दुकान से गोमांस से भरा बैग बरामद

वायरल हो रही वीडियो को देहरादून के प्रेमनगर स्थित उत्तरांचल यूनिवर्सिटी के सामने पहलवान पराठा ढाबा का बताया जा रहा है, जहां एक बालक उम्र करीब 12-13 साल से दो युवक बातचीत कर रहे हैं। बालक अपना नाम मोहम्मद दिलशाद बता रहा है और प्रतिदिन मियां वाला से यहां रोज आता है। जब युवकों ने दिलशाद से कसाई खाने के बारे में पुछा तो वह कहने लगा कि मियां वाला में बड़ी मस्जिद के पास कसाई खाने में रोज गाय कटती है और वहां बहुत कसाई है। जब युवकों ने पुछा कि पुलिस का छापा नहीं पड़ता तो दिलशाद कहता है कि पकड़ के ले जाते हैं और फिर पैसा लेकर छोड़ देते हैं। जिसके बाद फिर गाय काटना शुरू कर देते हैं।