दीपक बिजल्वाण बर्खास्त

हाल में ही जिला पंचायत अध्यक्ष दीपक बिजल्वाण को बर्खास्त करने को लेकर जारी आदेश के खिलाफ वह हाइकोर्ट पहुंच गए और शासन के बर्खास्तगी आदेश को चुनौती देते हुए याचिका दायर की।

जिला पंचायत अध्यक्ष दीपक बिजल्वाण पर जिला पंचायत के सदस्यों ने भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे। आरोप थे कि जिला पंचायत द्वारा कराए गए कार्य कहीं धरातल में नहीं है और बिना कार्य कराए ही कार्यदायी संस्था व ठेकेदारों को भुगतान कर दिया गया। इसके अलावा निविदा आवंटन में भी पारदर्शिता का कहीं कोई ध्यान नहीं रखा गया। शिकायतों पर शासन ने जिलाधिकारी और मंडलायुक्त से जांच कराई, जिसमें प्रथम दृष्टया में आरोप सही पाए गए।

गत शुक्रवार को सचिव पंचायतीराज नितेश झा की ओर से जिला पंचायत अध्यक्ष दीपक बिजल्वाण के बर्खास्त के आदेश जारी कर दिए गए। आदेश के अनुसार दीपक अपने कर्तव्य और दायित्व को ठीक से नहीं निभा पाए। बर्खास्तगी आदेश को हाईकोर्ट में चुनौती देते हुए दीपक बिजल्वाण ने याचिका दायर की है, जिस पर बुधवार को सुनवाई हो सकती है।

दीपक बिजल्वाण का कहना है कि अनियमितता में उनकी कोई भूमिका नहीं है, यदि कहीं अनियमितता हुई है तो उसके लिए अपर मुख्य अधिकारी व अभियंता जिम्मेदार हैं। राजनीतिक द्वेष के तहत उन्हें निशाना बनाया जा रहा है। याचिका में कहा है कि मुख्यमंत्री को उन्हें पद से हटाने का अधिकार नहीं है।

यह भी पढ़ें- टिहरी के बाद उत्तरकाशी कोषागार में तीन कर्मियों ने किया 42 लाख का गबन, मुकदमा दर्ज 

Leave a comment

Your email address will not be published.