राजस्थान के उदयपुर में दो मुस्लिम युवकों द्वारा कन्हैयालाल की हत्या के बाद लोगों का आक्रोश भड़़क गया है। विभिन्न राज्यों में लोग इस जघन्य हत्याकांड के खिलाफ सड़कों पर उतरे हैं। इस जघन्य हत्याकांड के बाद उत्तराखंड में भी माहौल गरमा गया है। राज्य के अलग-अलग हिस्सों में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। कोटद्वार और ऋषिकेश में हिन्दू वादी संगठनों ने रैली निकाली और सरकार से हत्यारों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही की मांग की।

कन्हैयालाल की हत्या के विरोध उत्तराखंड में प्रदर्शन

उदयपुर में कन्हैयालाल की हत्या के विरोध में बुधवार को कोटद्वार में हिंदू संगठनों द्वारा प्रदर्शन किया गया और बाजार भी बंद करवाया गया। लैंसडौन विधायक दिलीप सिंह रावत के नेतृत्व में हिंदू पंचायती धर्मशाला से जुलूस शुरु हुआ और राष्ट्र विरोधी तत्वों के खिलाफ नारेबाजी करते हुए तहसील परिसर में पहुंचा। विधायक दिलीप रावत ने हिंदू संगठनों को एकजुट होकर राष्ट्र विरोधी तत्वों के खिलाफ खड़े होने का आह्वान किया और उप जिला अधिकारी प्रमोद कुमार के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन प्रेषित कर हत्या आरोपितों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की।

यह भी पढ़ें- उत्तराखंड: नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट डालने पर भाजपा नेता को जान से मारने की धमकी

कोटद्वार के अलावा ऋषिकेश में भी हिंदू जागरण मंच ने उदयपुर हत्याकांड के खिलाफ प्रदर्शन किया और तहसील मुख्यालय में और प्रदर्शन कर राष्ट्रपति को संबोधित एक ज्ञापन उप जिलाधिकारी को सौंपा। हिंदू जागरण मंच के प्रदेश सह संयोजक सत्यवीर सिंह तोमर ने कहा कि राजस्थान में हुए नृशंस हत्याकांड प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल उठ रहे हैं। राजस्थान में कांग्रेस की सरकार के दौरान लगातार हिंदुओं पर हमले हो रहे हैं। इस घटना की केंद्रीय एजेंसी से जांच कराई जाए। इस घटना को अंजाम देने का उद्देश्य देश के हिंदू समाज को भयभीत करना भी है।