Fect Check: 30 सैकेंड तक सांस रोकने के इस टेस्ट का कोरोना संक्रमण से कोई लेना-देना नहीं, वीडियो है फर्जी

साभार विश्वास न्यूज़: सोशल मीडिया पर 30 सेकंड एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। जिसमें सांस रोकने वाली इस प्रक्रिया को कोरोना संक्रमण का टेस्ट बताया जा रहा है। जो कि पूरी तरह फर्जी है। बता दें पहले भी इससे मुलते-जुलते एक कथित सांस रोकने के दावे की खबरें वायरल हुई थी। जिन्हें भी एक्सपर्ट ने फैक न्यूज़ बताया।

वीडियो में दावा किया गया है, ‘यदि आप बिन्दु के अनुसार से A से B तक सांस रोक लेते हो तो आप कोरोना से मुक्त हो सकते हो।’ इस पोस्ट के आर्काइव्ड वर्जन को यहां क्लिक कर देखा जा सकता है।

Image: Facebook

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की वेबसाइट पर मौजूद जानकारी और उनके आधिकारिक फेसबुक पेज से शेयर की गई है जिसमें WHO की वेबसाइट पर मिथ बस्टर सेक्शन में साफ तौर पर लिखा है कि 10 सेकंड या अधिक समय तक बिना परेशानी के सांस को रोक लेना इस बात का सबूत नहीं है कि आप कोरोना संक्रमण से मुक्त हैं।

इसी जानकारी को WHO ने अपने आधिकारिक फेसबुक पेज पर भी शेयर किया है। इसे नीचे देखा जा सकता है:

FACT: Being able to hold your breath for 10 seconds or more without coughing or feeling discomfort DOES NOT mean you are free from the coronavirus disease or any other lung disease.