बारात में ना ले जाने पर दोस्त ने भेजा 50 लाख का नोटिस

आमतौर पर शादी-ब्याह में दूल्हा अपने दोस्तों को जरुरी आमंत्रित करता है। शादी में मस्ती करने के मामले में दूल्हा-दुल्हन के दोस्त हमेशा आगे रहते हैं, लेकिन यदि हम आपको बताए की एक दोस्त द्वारा दूसरे दोस्त को बारात में ना ले जाने पर 50 लाख रुपए का हर्जाना भरने का नोटिस भेज दिया। तो शायद आप यह यकीन नहीं करेंगे, लेकिन है 100 फीसदी सच। दोस्त ने आरोप लगाया कि कार्ड में दिए गए समय से पहले दूल्हा बरात लेकर चला गया और जब तक दोस्त तैयार होकर पहुंचा तब तक बरात रवाना हो चुकी थी।

यह भी पढ़ें- उत्तराखंड: 4 माह से ढूंढते रहे परिजन और बेटी ने गाजियाबाद में कर ली शादी

जानकारी के अनुसार आराध्या कॉलोनी बहादराबाद निवासी रवि की शादी धामपुर यूपी निवासी अंजू के साथ 23 जून 2022 को तय हुई थी। दूल्हे रवि ने अपने दोस्त चंद्रशेखर को एक सूची बनाकर शादी के कार्ड बांटने की जिम्मेदारी सौंपी। चंद्रशेखर ने रवि के दोस्तों को कार्ड बांटे और 23 जून की शाम पांच बजे शादी में पहुंचने का आग्रह किया। चंद्रशेखर के साथ सभी लोग 04:50 पर विवाह स्थल पर पहुंचे लेकिन वहां जाकर पता चला कि बरात निकल चुकी है। चंद्रशेखर ने जब दूल्हे से जानकारी ली तो दूल्हे ने बताया कि हम लोग जा चुके हैं और आप लोग वापस चले जाओ।

बारात में ना ले जाने पर भेजा नोटिस

चंद्रशेखर का कहना है कि उसके कहने पर जो लोग दोस्त की शादी में जाने के लिए आए थे उन्हें दूल्हा द्वारा बारात में ना ले जाने की वजह से काफी दुख पहुंचा है और उन सभी ने चंद्रशेखर को अत्यधिक मानसिक प्रताड़ना पहुंचाई और उसकी छवि को खराब किया। चंद्रशेखर का कहना है कि इस संबंध में उसने दूल्हे रवि को फोन पर भी मानहानि की सूचना दी लेकर रवि ने ना कोई खेद जताया और ना माफी मांगी। जिसके बाद चंद्रशेखर ने अपने एडवोकेट अरुण भदौरिया के माध्यम से एक कानूनी नोटिस भिजवाया है कि 3 दिन के अंदर मानहानि की बात सार्वजनिक रूप से शमा याचना करें और 50 लाख हर्जाना भरें। फिलहाल यह मामला क्षेत्र में चर्चा का विषय बना हुआ है।