नूपुर शर्मा की टिप्पणी के बाद उठा बवाल फिलहाल थमता नजर नहीं आ रहा है। एक तरफ जहां भाजपा ने नूपुर शर्मा को निलंबित कर दिया वहीं दूसरी और अब मुस्लिम संगठन उनकी गिरफ्तारी की मांग करने लगे हैं। यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बीजेपी के इस कार्रवाई को महज दिखावा बताया है।

नूपुर शर्मा की टिप्पणी के खिलाफ देश के विभिन्न हिस्सों में प्रदर्शन हो रहे हैं हाल में ही कानपुर में मुस्लिम समुदाय के लोगों द्वारा खूब पत्थरबाजी और विरोध किया गया। रविवार दोपहर बाद भाजपा ने विवादित बयानों के चलते कार्रवाई करते हुए नूपुर शर्मा को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया। वहीं दिल्ली भाजपा के मीडिया हेड नवीन जिंदल को भी पार्टी ने बाहर का रास्ता दिखाया है। उन पर भी विवादित बयान देने का आरोप है।

यह भी पढ़ें- पार्टी से सस्पेंड होने के बाद नूपुर शर्मा ने मांगी माफी, कहा हमारा मकसद धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाना नहीं था

नूपुर शर्मा के बयान के बाद उनके खिलाफ मुंबई, हैदराबाद तथा पुणे में मुकदमा दर्ज कराया गया है, लेकिन मुस्लिम संगठन अब नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी की मांग करने लगे हैं। अखिलेश यादव ने बीजेपी की कार्रवाई को महज दिखावा दिया और ट्वीट किया कि भाजपा नूपुर शर्मा पर सिर्फ निलंबन का दिखावटी कार्रवाई ना करें बल्कि वैधानिक कदम उठाए, विवादित बयान पर बीजेपी से निलंबन तो उनका भी हुआ था, जो आज उत्तर प्रदेश की BJP सरकार में मंत्री बने बैठे हैं।