भारत चीन संघर्ष: प्रधानमंत्री मोदी ने सेना को दी ‘इमरजेंसी पावर’, पढ़ें पूरी ख़बर

भारत चीन संघर्ष : 15-16 जून की रात लद्दाख की गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प पर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुली छूट दे दी है. इस हिंसक झड़प में भारत के एक कर्नल सहित 20 जवान शहीद हो गए. वही दूसरी और चाइना के 43 सैनिक मारे जाने और कई सैनिकों के घायल होने की खबर भी है.

यह भी पढ़े :- Corona Update:- भारत में कोरोनावायरस से पिछले 24 घंटे में हुई सबसे ज्यादा मौतें

इस घटना के बाद मंगलवार शाम को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंंह ने तत्काल एक बैठक बुलाई थी. जिसमें विदेश मंत्री एस जयशंकर, तीनों सेना चीफ और चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत शामिल थे.

सरकारी सूत्रों के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लद्दाख सीमा पर आपातकालीन स्थिति में निपटने के लिए इमरजेंसी पावर दे दी है, तथा चीनी सैनिकों को उनकी भाषा में जवाब देने के लिए कह दिया है.

इस हिंसक झड़प से हुए तनाव से कई देश हुए परेशान

भारत और चीन के बीच सड़क पर यूएन के सेक्रेटरी ने चिंता जताते हुए दोनों देशों से संयम बरतने की अपील की है. अमेरिका भी इस पूरे हालात पर नजर बनाए रखे हुए हैं.

यह भी देखें :- सोशल मीडिया पर फैलाया गया सुशांत सिंह राजपूत का आखिरी फैक ट्वीट

प्रधानमंत्री मोदी ने 19 जून को बुलाई सर्वदलीय बैठक

प्रधानमन्त्री मोदी ने 19 जून को शाम 5:00 बजे भारत चीन सीमा पर हो रहे विवाद के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाई है. इस बैठक में अलग-अलग पार्टियों के अध्यक्ष शामिल होंगे. यह जानकारी पीएमओ ने अपने टि्वटर हैंडल से ट्वीट करके कहा.

20 सैनिकों के शहीद होने पर पूरे देश में गुस्से में है और कई विपक्ष के नेताओं ने इस बारे में प्रधानमंत्री से सवाल पूछे हैं. राहुल गांधी ने ट्वीट करके केंद्र सरकार पर निशाना साधा था. विपक्ष के कई नेता इस बारे में सरकार से जवाब चाहते हैं कि आखिर सरकार चीन के मसले पर देश को सच्चाई क्यों नहीं बता रही है.

भारत चीन संघर्ष