कोरोनिल विवाद: प्रतिबंध हटने के बाद रामदेव बाबा ने आलोचकों पर साधा निशाना

75

हिन्दू लाइव डेस्क :- कोरोनिल विवाद पर आज योग गुरु बाबा रामदेव ने प्रेस कांफ्रेंस करकेे सफाई दी. उन्होंने कहा कि कोरोनावायरस के इलाज के लिए पतंजलि द्वारा निर्मित कोरोनिल दवाई पर अब कोई कानूनी प्रतिबंध नहीं है. हमने राज्य सरकारों सेेे बात करके कोरोनिल किट पूरे देशभर मेंं उपलब्ध कराई जाएगी.

पतंजलि द्वारा कोरोनिल दवा के निर्माण के बाद से ही अफवाहों और विवादों का सिलसिला शुरू हो गया था. जिसको लेकर योग गुरु बाबा रामदेव को आज प्रेस कॉन्फ्रेंस करनी पड़ी.

बाबा रामदेव ने कहा की ऐसा प्रतीत हो रहा है कि हिंदुस्तान के अंदर आयुर्वेद का काम करना एक अपराध हो गया है. कुछ लोग मेरे खिलाफ ऐसे एफ. आई. आर. दर्ज कर रहे हैं, जैसे मैंने कोई देशद्रोही आतंकवादी वाला काम किया हो . साथ में ही उन्होंने कहा कि आयुर्वेद का सत्य हम कभी ना मिटने देंगे, ना ही दबने देंगे. आयुर्वेद और हमारा साथ हमेशा ही रहेगा.

यह भी देखें :- LAC पर चीन ने तैनात किये 20,000 सैनिक, भारत भी हरकत में

पतंजलि द्वारा निर्मित को कोरोनिल पर केंद्र सरकार ने प्रचार प्रसार पर यह कहकर रोक लगा दी थी, कि अभी हम इसके वैज्ञानिक तथ्यों और खेत के पूर्णता जानकारी नहीं है. पतंजलि द्वारा सब तथ्यों की जानकारी देने के बाद आयुष मंत्रालय द्वारा आज इसका प्रमोशन और विज्ञापन करने की अनुमति मिल गई है.

रामदेव बाबा ने ड्रग माफिया और मल्टीनेशनल कंपनियों को निशाना साधते हुए कहा, कि वे लोग अपने फायदे के लिए योग और आयुर्वेद के खिलाफ माहौल बना रहे हैं.

कोरोनिल विवाद पर उन्होंने कहां कि पतंजलि ने जो काम किया है, आप भले ही उसकी प्रशंसा मत कीजिए, परंतु तिरस्कार भी मत कीजिए और आयुष मंत्रालय ने अब पतंजलि के कार्यों की तारीफ की है. जिससे अब सवाल उठाने वालों के इरादे खत्म हो गए.

उन्होंने कहा कि पतंजलि ₹535 पर दवा उपलब्ध करके कोई गुनाह नहीं कर रही है परंतु बाजार में ₹500 की गोली और ₹5000 के इंजेक्शन पर कोई सवाल नहीं उठा रहा है. आयुष मंत्रालय द्वारा की ओर शब्द का इस्तेमाल करने के लिए मना किया है जिसकी जगह पर अब मैनेजमेंट शब्द इस्तेमाल किया जाएगा.