भारतीय उड़ान रोकने वाले देशों के विमानों को भारत में भी अनुमति नहीं

नई दिल्ली. कोरोना महामारी के चलते सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें बंद हैं। कई महीनों बाद सभी देशों ने इसे यात्रियों के लिए सुचारू कर दिया गया है। ऐसे में कोरोना के ख़तरे को देखते हुए अधिक जोख़िम वाले देशों से आने वाले विमानों पर कई देशों ने रोक लगा दी है।

बता दें भारत ने अपने हिस्से के रूप में दो एयर इंडिया मिशन और एयर बबल उड़ाने शुरू की जिसको लेकर कई देशों ने आपत्ति जताई। हालांकि आपत्ति जताने वाले कुछ देशों के साथ मामला सुलझा लिया है। हम आपको बताते है कि इन देशों ने भारत की उड़ानों को लेकर क्या कहा।

दुबई: दुबई ने कोरोनावायरस (covid-19) के ख़तरे को देखते हुए एयर इंडिया की उड़ानों पर प्रतिबंध लगा दिया था। इस देश ने अपने अधिकारियों को 4 कोविड-19 परीक्षण केंद्रों को ब्लैकलिस्ट करने के लिए कहा है। इन अधिकारियों को निर्देश है कि यात्रियों की फ्लाइट में सवार करने से पहले कोविड-19 जांच करनी होगी।

अमेरिका: इस देश ने मई में वंदे भारत मिशन की उड़ानों पर प्रतिबंध लगाते हुए कहा था कि भारत सरकार अमेरिकी एयरलाइनों की ऐसी ही उड़ानों के संचालन पर रोक लगाकर उनके साथ भेदभावपूर्ण व्यवहार कर रही है। जिसके बाद इस मुद्दे को भारत और अमेरिका ने एयर बबल स्थापित करके सुलझा लिया था।

जर्मनी: भारत और जर्मनी के बीच कोई उड़ान परिचालन नहीं है। दोनों ही देशों के बीच एक एयर बबल समझौता हुआ है। और इस बात पर चर्चा चल रही है कि जर्मनी भारतीय वाहकों को उतनी उड़ान भरने की अनुमति नहीं दे रहा है, जितनी कि अन्य देशों को मिल रही है।