चीन की विस्तारवादी नीतियों को सिर्फ भारत ही रोक सकता है – रिपोर्ट

चीन अपनी विस्तारवादी नीतियों से दुनिया के कई देशों को परेशान कर हैं। लेकिन वो भारत की बढ़ती ताकत से परेशान भी दिखाई दे रहा हैं। साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट में छपी एक आर्टिकल की मानें तो चीन की विस्तारवादी नीतियों को सिर्फ भारत की रोक सकता हैं।

एक रिपोट के मुताबिक फ्रीडम गैजेटी के एडिटर मोहम्मद जीशान ने अपने एक आर्टिकल में कहा है की चीन की विस्तारवादी नीतियों को रोकने में भारत की भूमिका सबसे अधिक होगी। क्यों की एशिया में भारत ही एक मात्र ऐसा देश हैं जो चीन के बराबर खड़ा हैं।

उन्होंने कहा, की चीन को जवाब देने के लिए बराबर की ताकत चाहिए। यानी शक्ति संतुलन होना चाहिए।

इसके लिए एशिया और प्रशांत महासागर के देशों को साथ आने की जरूरत है। भारत की यहां अहम भूमिका होगी। भारत आज के समय तेजी के साथ आगे बढ़ रहा हैं।

जीशान ने कहा की भारत चाइना के खिलाफ जियोपॉलिटकल मामलों में कई बार चुप रहता है। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। क्यों की भारत वियतनाम से सैन्य रिश्ते बढ़ा रहा हैं तथा ऑस्ट्रेलिया और जापान से भी रिश्ते मजबूत कर रहा हैं। चाइना की नीतियों को रोकने के लिए भारत की भूमिका सबसे जरुरी हैं।