समाजसेवी रोशन रतूड़ी को भाजपा के वरिष्ठ नेता ने दी खुलेआम धमकी

हिंदू लाइव डेस्क :- उत्तराखंड के समाजसेवी रोशन रतूड़ी जो विदेश में रहने वाले लोगों की मदद करते हैं। परंतु आजकल सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रही है जिसमें एक व्यक्ति रोशन रतूड़ी के लिए अब शब्दों का प्रयोग कर रहा है।

रोशन रतूड़ी ( सामाजिक कार्यकर्ता)

जानिए कौन है रोशन रतूड़ी

रोशन रतूड़ी मूल रूप से उत्तराखंड के टिहरी गढ़वाल जिले के रहने वाले हैं।1980 मैं इनका परिवार देहरादून में आ गए थे, यहीं से इन्होंने अपनी पढ़ाई पूरी की थी पढ़ाई पूरी करने के बाद यह खाड़ी देशों में अपना व्यवसाय शुरू करने के लिए निकल गए और जहां इन्होंने अपने व्यवसाय में सफलता भी दर्ज की। अपने फेसबुक पेज पर यह लाइव आते रहते हैं। मिली सूचना के अनुसार रोशन रतूड़ी विदेशों में फंसे हुए लोगों को वापस उनके देश भेजने में मदद करते हैं।

यह भी पढ़ेंउत्तरकाशी का वो गांव जहां पिछले 7 सालों से संचार व्यवस्था का बना है मज़ाक

अभी हाल में ही इन्होंने उत्तराखंड टिहरी के युवक कमलेश भट्ट का शव भारत पहुंचाया था परंतु भारत सरकार ने कोरोनावायरस के चलते वह सब वापस लौटा दिया था जिसकी वजह से इन्होंने फेसबुक पर उत्तराखंड सरकार की तीखी आलोचना की थी और सरकार के कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठाए थे। रोशन रतूड़ी ने दोबारा कोशिश करते हुए कमलेश भट्ट के शव को दोबारा भारत भेजा।

दिल्ली से शव लेने के बाद परिजनों ने ऋषिकेश पूर्णानंद घाट पर अंतिम संस्कार किए। मृतक के परिजनों ने रोशन रतूड़ी की तारीफ करते हुए उन्हें देवदूत बताया।

यह भी देखें- उत्तराखंड में महिलाओं की भूमिका पर सवाल, क्या सिर्फ ये बातें कहने के लिए हैं?

उत्तराखंड सरकार पर सवाल करने पर सोशल मीडिया में एक आदमी रोशन रतूड़ी के लिए काफी अपशब्दों का इस्तेमाल करता है। जिसमें व्यक्ति अपना नाम अनिल पांडे बताता है और यह फैजाबाद का रहने वाला है। पहाड़ टीवी के अनुसार यह व्यक्ति अपनी राजनीतिक पकड़़ रखता है।

यह व्यक्ति अपने को भाजपा का वरिष्ठ नेता बताता है जहां उत्तराखंड के लोग भाजपा के प्रचार में अपनी पूरी मेहनत लगा कर भी वरिष्ठ नेता नहीं बन पाते, वहीं फैजाबाद के मूल निवासी उत्तराखंड में वरिष्ठ नेता बन जाते हैं। अब सोशल मीडिया पर यह सवाल उठ रहा है कि व्यक्तिगत राय हर किसी से भिन्न हो सकती है परंतु जिस प्रकार अपशब्दों का प्रयोग हो रहा है क्या यह वाकई उचित है। अब लोग बीजेपी सरकार से इस पर कार्यवाही करने की अपील कर रहे हैं।