उत्तराखंड में हो रही सभी धार्मिक स्थलों को खोलने की तैयारी

Uttarakhand Char Dham

हिंदू लाइव डेस्क :- गृह मंत्रालय की नई गाइडलाइन के अनुसार अब लाॅक डाउन में छूट दी जा रही है. जिससे अब उत्तराखंड में 8 जून से धार्मिक स्थलों को खोलने की तैयारी हो रही है. उत्तराखंड के धार्मिक स्थल बद्रीनाथ धाम में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाने की तैयारी चल रही है.

उत्तराखंड में इस समय पर चार धाम यात्रा चलती है जो बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री मैं पूर्ण होती है.

हिंदू धर्म में चार धाम की यात्रा बहुत ही शुभ माना जाता है और धार्मिक स्थलों में लोग अपनी पूर्ण आस्था से यात्रा करते हैं.

जानिए चार धामों के बारे में संक्षिप्त जानकारी

बद्रीनाथ :- बद्रीनारायण या बद्रीनाथ उत्तराखंड के चमोली जिले मैं स्थित भगवान विष्णु का मंदिर है. समुद्र तट सै यह 3133 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है. यहां के बारे में एक कहावत भी प्रचलित है कि “जो जाए बद्री वह ना आए अदरी” तात्पर्य यानी जो एक बार बद्रीनाथ के दर्शन कर लेते हैं उन्हें जन्म मृत्यु जंजाल से मोक्ष मिल जाता है, शास्त्रोंं के अनुसार कम से कम एक बार भगवान बद्री नारायण के दर्शन जरूर करने चाहिए.

केदारनाथ :- उत्तराखंड राज्य के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित भगवान शिव का मंदिर है. केदारनाथ मंदिर कितना पुराना है इस मामले में कोई प्रमााण नहीं है. गौरीकुंड तक ही सड़़क व्यवस्था है. गौरीकुंड से केदारनाथ तक लगभग 10 किलोमीटर पैदल यात्रा करनी पड़़ती है.

अभी पढ़े : पर्यावरण दिवस पर बच्चों ने वृक्षारोपण कर दिया पर्यावरण को बचाने का संदेश

गंगोत्री :- उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले से 98 किलोमीटर दूर गंगोत्री मैं मां गंगा का मंदिर स्थित है. गंगोत्री मां गंगा का उद्गम स्थल है. यहां समुद्र तल से 3025 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है. हिंदू धर्म में मां गंगा को मोक्ष दायिनी और पाप नाशक माना गया है. जिसके प्रति लोगों के मन में बहुत आस्थाथा रहती हैं.

यमुनोत्री :- उत्तरकाशी जिले में स्थित यमुनोत्री समुद्र तल से 3235 मीटर की ऊंचाई पर यमुना देवी का मंदिर हैै . चार धाम तीर्थ यात्रा मेंं एक धाम यह भी है. जानकीचट्टी से 6 किलोमीटर की कड़ी चढ़ाई पार करने के बाद यमुनोत्री पहुंचा जाता है.

यह भी पढ़ें :- अभिनेता सोनू सूद ने उत्तराखंडी व्यंजनों की तारीफ करते हुए कही उत्तराखंड आने की बात

पूरे देश में लोग डाउन होने की वजह से चार धाम यात्रा रुकी हुई थी परंतु गृह मंत्रालय के नई गाइडलाइन के अनुसार अब धार्मिक स्थल खोल सकते हैं जिसके परिणाम स्वरूप चारों धामों में अब सोशल डिस्टेंसिंग की तैयारी हो रही है.

यात्रा के दौरान चारों ओर स्वच्छ वातावरण और पर्यावरण की मनमोहक झांकियां नजर आती है. केंद्र सरकार ने भी चार धामों की यात्रा को ध्यान में रखते हुए सड़कों की गुणवत्ता पर ध्यान दे रही है हाल में ही केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने चार धाम यात्रा सड़क परियोजना का उद्घाटन किया था.