क्या हरिद्वार सिडकुल स्थित कंपनियों में गाइडलाइन का पालन नहीं हो रहा

हरिद्वार सिडकुल स्थित कंपनियों में गाइडलाइन का पालन नहीं हो रहा

हिन्दू लाइव डेस्क – हरिद्वार सिडकुल स्थित कंपनियों में पिछले 3 दिनों में कोरोनावायरस के मामलों में बड़ी तेजी से बढ़ोतरी हुई है. जिसमें यह सोचनीय विषय है कि क्या सिडकुल स्थित कंपनियों में मानकों का पालन नहीं हो रहा है.

हरिद्वार सिडकुल स्थित कंपनियों में गाइडलाइन का पालन नहीं हो रहा

यह भी पढ़े – चारधाम देवस्थानम बोर्ड पर उच्च न्यायालय के निर्णय का मुख्यमंत्री ने किया स्वागत

हरिद्वार में पिछले 3 दिनों में मिले संक्रमित मरीजों की संख्या

  • 21 जुलाई को 220, हरिद्वार में 52
  • 20 जुलाई को 127, हरिद्वार में 95
  • 19 जुलाई को 239 , हरिद्वार में 150

कोरोनावायरस की बढ़ती हुई रफ्तार को देखकर यही लग रहा है कि उत्तराखंड में कोरोना वायरस का दूसरा दौर चालू हो गया है. यदि आप नजर डालें तो अंतिम 1 सप्ताह में कोरोनावायरस के संक्रमित मरीजों की संख्या में तीव्रता से बढ़ोतरी हुई है.

पिछले सप्ताह से जिस तरीके से उत्तराखंड में केस की बढ़ोतरी हुई है. सरकार को इस पर ठोस कदम उठाने की जरूरत है. हरिद्वार में एक ही कंपनी से 200 से अधिक संक्रमित मरीज मिलने पर कंपनी की कार्यशैली पर भी सवाल उठाता है.

हरिद्वार सिडकुल स्थित कंपनियों में सामान्य तौर पर कुछ सवाल

  • क्या कंपनी में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो रहा था.
  • क्या कंपनी के कर्मचारी मास्क का उपयोग नहीं कर रहे थे.
  • क्या कंपनी के कर्मचारियों में लक्षण होने के बाद भी कर्मचारी को कार्य पर बुलाया गया.
  • क्या कर्मचारी द्वारा कोरोना के लक्षण छिपाए गए.

यदि हरिद्वार की बात करें तो हरिद्वार में मैं अभी तक 777 मामले आए हैं. जिसमें से अधिकतर मामले सिडकुल से ही है. हरिद्वार सिडकुल स्थित एक कंपनी में अभी तक 288 कर्मचारी कोरोना संक्रमित मिल चुके हैं, और अभी तक लगभग 400 कर्मचारियों की रिपोर्ट आनी बाकी है.

यह भी पढ़े – चारधाम देवस्थानम एक्ट को लेकर उत्तराखंड सरकार को बड़ी राहत, हाईकोर्ट ने खारिज की याचिका

सिडकुल स्थित कंपनियों में गाइडलाइन को सख्ती से पालन करने की आवश्यकता

उत्तराखंड सरकार को सिडकुल स्थित कंपनियों में गाइडलाइन का पालन करवाने में सख्ती दिखानी पड़ेगी. आप कंपनी का उदाहरण देकर समझ सकते हैं कि किस तरीके से कोरोनावायरस दूसरे लोगों बड़े हद तक फैल सकता है. लोगों को भी खुद इसके प्रति जागरूक रहना चाहिए क्योंकि कोरोना का इलाज सतर्कता और सावधानी ही है