‘मुस्लिम बन जा, हम निकाह कर लेंगे’ लड़की नहीं मानी सरेआम मौत के घाट उतार दिया

ख़बर शेयर करें

हरियाणा. फरीदाबाद के बल्लभगढ़ में स्थित अग्रवाल कॉलेज से तीन बजे परीक्षा देेेेेकर लौट रही छात्रा को जबरदस्ती गाड़ी में बिठाने की कोशिश की जाती है, लेकिन लड़की के मना करने पर तौसीफ़ ने दिनदहाड़े उसके सिर पर गोली मारकर खुद फरार हो जाता है। हालांकि पुलिस उसे सीसीटीवी फुटेज की मदद से उसे दबोच लेती है। पुलिस की शुरुआती जांच में पता चला कि तौसीफ़ के साथ उसका दोस्त रेहान भी शामिल था।

नोट: कुछ न्यूज़ चैनल्स तौसीफ (Tauseef) को तौफीक (Taufiq) लिखकर अपनी बचाने में, दूसरों की चाटने में और तीसरोंं की सेकने में लगे हैं।

‘मुस्लिम बन जा, हम निकाह कर लेंगे’

दरअसल हत्यारा तौसीफ़ और निकिता पांचवीं कक्षा से एक ही स्कूल में पढ़ते थे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक वह उस पर धर्म परिवर्तन का दबाव बना रहा था। वह उसे हर बार कहता था कि ‘मुस्लिम बन जा, हम निकाह कर लेंगे’। लड़की नहीं मानी तो उसने उसकी जान ले ली।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक तीन साल पहले ही पंचों ने इस फैसला किया था कि वह निकिता को परेशान ना करे। बावजूद इसके वर्ष 2018 में उसने निकिता को अगवा कर लिया। मामला पुलिस तक पहुंचा तब उसे छोड़ दिया गया।

2 साल पहले लड़की को किया था अपहरण

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक दो साल पहले यानी वर्ष 2018 में इसी युवक ने बल्लभगढ़ से निकिता तोमर का अपहरण कर लिया था। परिजनों ने स्थानीय पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज कराया तो बाद में लड़की को छोड़ दिया गया। सूत्रों की मानें तो तौसीफ़ के परिवार वालों ने निकिता तोमर के परिजनों से माफी मांग ली थी और एफ आईआर वापस लेने को कहा।

राजनीतिक रसूखदार है हत्यारे तौसीफ़ का परिवार

निकिता तोमर के हत्यारे तौसीफ़ एक राजनीतिक रसूखदार परिवार से ताल्लुक रखता है। इसके दादा कबीर अहमद विधायक रह चुके हैं जबकि चाचा खुर्शीद अहमद हरियाणा के पूर्व मंत्री थे। कांग्रेस विधायक आफताब मेवात में विधायक हैं।


ख़बर शेयर करें

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें