नूपुर शर्मा (Nupur Sharma) का पैगंबर मोहम्मद पर टिप्पणी के बाद राष्ट्रीय प्रवक्ता व नवीन जिंदल (Naveen Jindal) पर बीजेपी (Bhartiya Janta Party) ने कार्रवाई करते हुए दोनों को पार्टी से निष्कासित कर दिया था। जिसके बाद यह मामला सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहा है।

वहीं, खाड़ी देशों की तीखी प्रतिक्रिया और विरोध के बाद लोग इसे देश की शान से भी जोड़ कर देख रहे हैं। इसी बीच चुनावी रणनीतिकार और अपने दोगलेपन के लिए विख्यात प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) ने भाजपा की इस कार्रवाई की प्रशंसा की है। प्रशांत किशोर ने कहा कि समाज में जाति-धर्म के नाम पर आग फैलाने वालों से सख्ती के साथ निपटना चाहिए। हालांकि उन्होंने शिवलिंग अभद्र पर टिप्पणी की बात नहीं की।

हालांकि, इस दौरान नूपुर शर्मा या किसी अन्य का नाम नहीं लिया। उन्होंने कहा कि यह लोकतंत्र है और यह देश संविधान के हिसाब से चलना चाहिए। किसी ने गलती की है, अगर कुछ अपशब्द बोला है तो निश्चित तौर पर कार्रवाई होनी चाहिए। प्रशांत किशोर उर्फ पीके ने आगे कहा कि किसी भी धर्म के मान्यताओं, गुरुओं या देवी

देवताओं के बारे में अपशब्द कहना आप की ओछी मानसिकता और आपकी सोच को दर्शाता है। उसे किसी भी हाल में सही नहीं ठहराया जा सकता है। वहीं, नूपुर शर्मा के घर बुलडोजर चलवाने की मांग के सवाल पर प्रशांत किशोर ने स्पष्ट तौर पर कहा कि बड़े लोगों के घर पर बुलडोजर नहीं चलता है। सिर्फ गरीब आदमी के घर पर बुलडोजर चलाया जाता है।