प्रयागराज हिंसा. नूपुर शर्मा के विरोध में देशभर में कट्टरपंथियों ने जगह-जगह हिंसात्मक घटनाओं को अंजाम दिया है। मुस्लिम बहुल क्षेत्रों में आगजनी और तोड़फोड़ करने वाले उपद्रवियों को चयनित करने के बाद अब उनकी सम्पत्ति पर चलाने के निर्देश दिए भी दिए गए हैं।

कई जगहों पर इस हिंसा में पुलिसकर्मी घायल हो गए। जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज और हवाई फायरिंग की। कुछ लोगों को पुलिस के इस रवैए को देखते हुए आपत्ति जताई। जिसके ज़वाब में पूर्व डीजीपी एनसी अस्थाना ने आपत्ति जताने वाले लोगों को खूब खरी खोटी सुनाई। उन्होंने कहा कि हिंसा करने वालों का ठीक ऐसा ही इलाज किया जाना चाहिए। बता दें कॉन्ग्रेस विधायक इरफान अंसारी ने भी दंगाइयों की मौत की निंदा करते हुए उनके परिवार के लिए आर्थिक मदद की घोषणा की है।

पूर्व डीजीपी ने शेयर की प्रयागराज हिंसा की तस्वीर सांझा

उन्होंने प्रयागराज की एक तस्वीर सांझा करते हुए लिखा कि यह कोई लोकनृत्य नहीं बल्कि वह डांस है जो पुलिस अपनी लाठी से करवा रही है। उन्होंने आगे कहा कि, “कुछ लिब्बू विलाप कर रहे हैं कि राँची में पुलिस ने दो प्राणियों को गोली मार दी। अरे, भैया, पुलिस गोली नहीं तो क्या *** मारेगी? अब वैसा कर दे तो बेवजह पुलिस के चरित्र पर आक्षेप होगा। इसीलिए गोली से संतुष्ट रहें। इसे स्पष्ट रूप से समझ लीजिए। उनका यह ट्वीट सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है।

उन्होंने आगे कहा कि “कई ऐसे जजमेंट भी होते हैं जब पुलिस को गोली मारने की अनुमति दी जाती है। इसके बाद पुलिस परिस्थितियों के अनुसार ही गोली चलाती है।”