Char Dham Yatra 2022: प्रतिदिन दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं की संख्या तय, इन नियमों का करना होगा पालन

चारधाम यात्रा में तीर्थयात्री की संख्या में कमी आने के बाद यह पंजीकरण अनिवार्य नहीं होने की अफवाह फैलाई जा रही थी, जिस पर आज पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने खबर को खंडन करते हुए कहा कि चारधाम यात्रा पर आने वाले यात्रियों के लिए पंजीकरण अनिवार्य है।

यह भी पढ़ें-  Char Dham Yatra 2022: प्रतिदिन दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं की संख्या तय, इन नियमों का करना होगा पालन

गौरतलब है कि तीन मई से शुरू हुई चारधाम यात्रा में तीर्थयात्रियों की उमड़ती भीड़ को देखते हुए प्रशासन ने पंजीकरण की व्यवस्था शुरू की थी। जिसके बाद बिना पंजीकरण कराए यात्रियों को वापस भी लौटाया गया था। बीते कुछ दिनों सोशल मीडिया समेत तमाम खबरों में यह अफवाह फैलाई जा रही थी कि चारधाम यात्रा के लिए अब पंजीकरण अनिवार्य नहीं है।

पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने खबर का खंडन करते हुए यात्रियों से अनुरोध किया कि वह किसी भी प्रकार की अफवाह में न आएं और पंजीकरण करके ही अपनी यात्रा की शुरुआत करें। पर्यटन मंत्री ने कहा कि सुरक्षा के मद्देनजर यात्रियों का पंजीकरण बहुत जरूरी है। ऐसे में चार धाम यात्रा पर पर आने वाले तीर्थ यात्रियों के लिए पंजीकरण अनिवार्य है।

यह भी पढ़ें- चारधाम यात्रा में गैर हिन्दुओं के प्रवेश पर लगे रोक – साध्वी प्राची

सतपाल महाराज ने कहा कि पंजीकरण से सरकार को यात्रा के संबंध में आवश्यक जानकारी मिल जाती है। किसी भी प्रकार के अवांछित घटना की दशा में पंजीकरण में दी गई जानकारी और मोबाइल नंबर के माध्यम से संबंधित यात्री और उनके परिजनों से संपर्क किया जा सकता है, इसलिए यात्रियों का पंजीकरण करवाना अनिवार्य है।