Navratri 2020: 58 वर्षों बाद बना है ऐसा संयोग, यहां जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

Shardiya navratri 2020: नवरात्रि के पहले दिन शैलपुत्री की उपासना की जाती है। आश्विन शुक्ल पक्ष की शारदीय नवरात्रि रविवार 17 अक्टूबर यानी आज से शुरू हो गई है। नवरात्रि के प्रथम दिन से ही पूजा पाठ का विशेष ध्यान रखा जाता है। बता दें इस वर्ष नवरात्रि आठ दिन की होगी। जिसका समापन 24 अक्टूबर को होगा।

58 वर्षों बाद बना है ऐसा संयोग

हिंदू पंचांग के अनुसार ज्योतिष गणना कहती है कि इस बार नवरात्रि का पर्व 1962 के बाद 58 साल के अंतराल पर विशेष संयोग के साथ आया है. इस बार शनि और गुरु दोनों नवरात्रि पर अपनी राशि में विराजे हैं। इस बार ज्योतिषियों का मानना है कि नवरात्रि के दौरान अच्छे कार्यों के लिए दृढ़ता बनी रहेंगी।

मूहूर्त का शुभ समय

मुहूर्त का समय प्रातः 06 :27 मिनट से 10’13 मिनट तक रहेगा। घटस्थापना के लिए अभिजित मुहूर्त सुबह 11बजकर 44 मिनट से 12 बजकर 29 मिनट तक रहेगा।

file photo: Shardiya navratri 2020

नौ दिन में इन मंत्रों का जाप करें

1. शैलपुत्री- ह्रीं शिवायै नम:। 2. ब्रह्मचारिणी- ह्रीं श्री अम्बिकायै नम:। 3. चन्द्रघण्टा- ऐं श्रीं शक्तयै नम:। 4. कूष्मांडा- ऐं ह्री देव्यै नम:। 5. स्कंदमाता- ह्रीं क्लीं स्वमिन्यै नम:। 6. कात्यायनी- क्लीं श्री त्रिनेत्रायै नम:। 7. कालरात्रि – क्लीं ऐं श्री कालिकायै नम:। 8. महागौरी- श्री क्लीं ह्रीं वरदायै नम:। 9. सिद्धिदात्री – ह्रीं क्लीं ऐं सिद्धये नम:।