वेस्टइंडीज टीम की जर्सी पर बना ‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ का लोगो, इस लोगों ने खड़े किए सवाल

हिन्दू लाइव डेस्क :- वेस्टइंडीज टीम अब अपनी नई जर्सी को लेकर विवादों में है. मामला यह हैै कि वेस्टइंडीज टीम की जर्सी पर ब्लैक लाइव्स मैटर वाला लोगो होगा, जिसकी वजह से इस पर विवाद शुरू हो गया है.

आखिर ब्लैक लाइव्स मैटर क्या है

यह ब्लैक लाइव्स मैटर एक आंदोलन का रूप है, जिसमें जातिगत, रंगभेद जैसे मुद्दों पर आवाज उठाई जाती है

वर्ष 2012 में एक ब्लैक अफ्रीकन अमेरिकन की हत्या पुलिस द्वारा कर दी गयी जिसके बाद सोशल मीडिया पर #blacklivesmatter का ट्रेंड चलाया गया था. 2014 में एक ऐसे ही मामला आने पर यह आंदोलन और तेज हो गया.

अभी 25 मई 2020 को अमेरिका में एक 40 साल के अमेरिकन अफ्रीकन की हत्या का मामला आने पर यह आंदोलन बड़ी तेजी से फैलने लगा, जिससे अमेरिका में नक्सलवाद के खिलाफ एक बहुत बड़ी आग भड़क गई थी.

क्यों हो रहा विवाद

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच हो रहे मैच में महेंद्र सिंह धोनी ने अपने दस्तानों पर बलिदान बैच का लोगो लगाया था. जिसके बाद से ही विवाद होना शुरू हो गया था. विवाद शुरू होने के बाद बीसीसीआई ने आईसीसी से इस बैच लगा दस्ताने को पहनने की इजाजत मांगी थी.

यह भी पढ़े :- बॉर्डर रोड ऑर्गेनाइजेशन ने 5 दिन में तैयार किया टूटा हुआ वैली ब्रिज

बीसीसीआई की अपील करने के बाद भी आईसीसी ने इस बलिदान बैच लगे दस्ताने को पहनने की अनुमति नहीं दी. आईसीसी के अनुसार दस्ताना पर केवल एक ही स्पॉन्सर का लोगो लगाया जा सकता है. और धोनी के दस्ताने पर एसजी का लोगों को पहले से लगा हुआ है, जिसकी वजह से उन्हें “बलिदान” बैज लगाने की परमिशन नहीं मिली.

अब हर कोई यह जानना चाहता है, कि आखिर यह राजनीति वाद और नक्सलवाद का प्रयोग खेल के मैदानों में क्यों किया जा रहा है. जिस पर आईसीसी ने कहा कि यहां लोगो किसी राजनीतिक और धार्मिक नहीं है और यह हो रहे जातिवाद विरोधी रूख के खिलाफ है

आईसीसी ने कहा कि हम इस मुद्दे पर नजर बनाए रखे हुए हैं और हम नक्सलवाद का विरोध करते हैं.