उत्तराखंड: बहन को लेकर छींटाकशी करता था सुहैल सिद्दकी, भाई ने की हत्या

रामनगर क्षेत्र में बहन को लेकर छींटाकशी करने वाले व्यापारी सुहैल सिद्दीकी की भाई ने दोस्त के साथ मिलकर हत्या की। पुलिस ने मृतक का शव मुरादाबाद में एक गन्ने के खेत से बरामद किया। वहीं लड़का का भाई भारतीय सेना में तैनात है और वर्तमान में छुट्टी पर घर आया है।

जानकारी के अनुसार जुबैर सिद्दकी ने तीन अगस्त को रामनगर नंदा लाइन निवासी व्यापारी सुहेल के लापता होने की सूचना दर्ज कराई। जिसके आधार पर पुलिस ने गुमशुदगी दर्ज कर जांच शुरू कर दी थी। मामले की खुलासे के लिए तीन पुलिस टीम गठित की गई। चोर पानी में गुमशुदा सुहैल की स्टेशनरी के बाहर लगे सीसीटीवी फुटेज जांचने पर एक अल्टो कार द्वारा गुमशुदा की मोटरसाइकिल को टक्कर मारने तथा सुहैल सिद्दकी को गाड़ी में डालने का प्रयास करने की बात सामने आई।

यह भी पढ़ें- Nainital: रिसॉर्ट में कुक हत्याकांड का खुलासा, सहकर्मी ने की थी हत्या

इसी दौरान यह बात भी सामने आई कि गुमशुदा सुहैल सिद्दकी का स्टेशनरी के पास रहने वाले हरीश राम की बेटी के साथ प्रेम-प्रसंग चल रहा था और इसी प्रेम-प्रसंग के चलते लड़की ने आत्महत्या की थी। जिसके बाद हरीश राम के परिवार की सुहैल सिद्दकी के साथ रंजिश रखने लगा था। पुलिस ने पुछताछ के लिए हरीश राम के बेटे भरत आर्या को पुछताछ के लिए थाना बुलाया तो भरत आर्य ने रोते हुए अपनी दास्तान बताई।

बहन ने की आत्महत्या

भरत आर्या ने बताया कि मृतक सुहैल सिद्दकी की दुकान के बगल में उसके पिता की लौहार की दुकान थी। जिसकी वजह से सुहैल उनकी दुकान में आता रहता था और इसी का फायदा उठाकर उसकी नाबालिग बहन को अपने प्रेम जाल में फंसा लिया और आये दिन उसके साथ गलत काम करने लगा। उस समय गरीब होने की वजह से सुहैल सिद्दीकी से इस बारे में कोई बात नहीं की। जब बहन को सुहैल सिद्दकी के अन्य प्रेम-प्रसंग के बारे में पता चला तो उसे सोहेल सिद्दिकी से अपने प्यार का वास्ता देकर और अपने साथ किये गलत काम का वास्ता देकर शादी करने को कहा जिसे सुहैल ने ठुकरा दिया। इस पर बहन ने आत्महत्या कर ली थी।

बहन को लेकर मारता था टोंट

भरत आर्या ने बताया कि सुहैल जब भी मिलता था तो बहन को लेकर टोंट मारता रहता था लेकिन घर की स्थिति खराब होने तथा ट्रेनिंग पीरियड होने की वजह से कुछ नहीं कर पाया लेकिन मन ही मन में उसकी हत्या की योजना बना ली थी। 14 जुलाई को जब भरत आर्या सेना से दो महीने की छुट्टी लेकर घर आया तो सुहैल ने बहन को लेकर फिर ताना मारा। भरत ने अपने दोस्त भोपाल राम के साथ मिलकर सुहैल सिद्दकी की हत्या की योजना बनाई। 2 अगस्त को योजना के तहत सुहैल की दुकान से करीब 500 मीटर दूर अल्टो कार रोककर इंतजार करने लगे, जैसै ही सुहैल अपनी मोटरसाइकिल से वहां पहुंचा तो योजना के अनुसार कार से टक्कर मार दी और गाड़ी में रखे रोडों से सिर पर वार कर दिया जिससे उसकी मौत हो गई।

सुहैल सिद्दीकी की हत्या

सुहैल सिद्दीकी की हत्या के बाद दोनों ने उसकी लाश कार में रख दी और मोबाइल, आधार कार्ड और पर्स नहर में बहा दिया। रात में ही उसके शव को शव को मालधन काशीपुर होते मुरादाबाद पहुचे और छजलेट के पास बाइक तथा चाबी सड़क किनारे झाड़ियों में फेंक दिया और शव को गन्ने के खेत में फेंक दिया। आरोपियों ने सुहैल के शव की पहचान छुपाने के लिए उसके चेहरे पर पेट्रोल छिड़ककर आग लगाने की बात भी कबूल की।