बागेश्वर: स्वरोजगार कर रहे युवा के सामान को असामाजिक तत्वों ने पहुंचाई क्षति

हिन्दू लाइव डेस्क – बागेश्वर में स्वरोजगार कर रहे युवा के सामानों को असामाजिक तत्वों ने क्षतिग्रस्त करके सामान को गधेरे में फेंक दिया.

देश में चल रही महामारी के कारण कई लोगों का रोजगार बंद हो गया है, ऐसे में यदि कोई युवा स्वरोजगार करना चाह रहा है, तो कुछ असामाजिक तत्व उन्हें यह करने नहीं दे रहे हैं. ऐसी ही एक घटना उत्तराखंड राज्य के बागेश्वर जिले में आई है. उत्तराखंड राज्य के बागेश्वर जिला मे स्वरोजगार कर रहे युवा के सामानों को असामाजिक तत्वों ने तोड़ कर फेंक दिया.

यह भी पढ़े- Vocal for local: अल्मोड़ा में सालों से बंद पड़ी फैक्ट्री हुई चालू, बनेगा लोकल अचार, बुरांश जूस.


मिली जानकारी के अनुसार बागेश्वर जिला के सीमीनरगोल गांव के एक युवा ने लोगों से पैसे उधार लेकर स्वरोजगार शुरू किया था. युवा ने लोगों से कर्ज लेकर स्वरोजगार हेतु एक रेहड़ी खरीदी और रेहड़ी पर के लिए सामान जुटाया.

प्राप्त जानकारी के अनुसार सीमीनरगोल गांव के युवा की रेहड़ी को कुछ असामाजिक तत्वों ने रात में क्षति पहुंचाई, सुबह रेहडी़ ना मिलने पर यूवा ने रेहड़ी की खोजबीन शुरू की, असामाजिक तत्वों द्वारा रेहड़ी को कुल्हाड़ी से काटने के बाद पास के गधेर में फेंक दिया गया.

यह भी पढ़े – इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय खेल स्टेडियम का नाम बदलकर तीलू रौतेली करने की उठ रही मांग

असामाजिक तत्वों द्वारा रेहडी़ को क्षतिग्रस्त करने पर अब युवा के सामने कई संकट उत्पन्न हो गए हैं. युवा द्वारा लोगों से लिए गए पैसों को वापस करने और स्वयं की आर्थिक स्थिति सही करने जैसे संकट उत्पन्न हो गए हैं. सरकार को ऐसे असामाजिक तत्वों को चिन्हित कर उन पर ठोस कार्रवाई करनी चाहिए. देश में चल रही महामारी के दौरान लोगों की आर्थिक स्थिति बिगड़ रखी है और ऐसे में लोगों की रोटी छीनने वाले ऐसे मानसिक रूप से विचित्र लोग कड़ी सजा के हकदार है.