हेमकुंड साहिब और लोकपाल लक्ष्मण मंदिर के कपाट शीतकाल के लिए बंद

चमोली जोशीमठ- सिखों के पवित्र तीर्थ स्थल हेमकुंड साहिब के कपाट अब शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए हैं। इसके साथ ही पवित्र तीर्थ लक्ष्मण मंदिर लोकपाल के कपाट भी बंद कर दिए हैं।

यह भी पढ़े- दूसरे समुदाय की लड़की से दोस्ती करने पर युवक को पीट पीट कर मार डाला

बता दें कि हेमकुंड साहिब के कपाट हर साल मई महीने में खुलते हैं, परंतु चल रही महामारी के कारण इस साल 4 सितंबर को कपाट खोले गए हैं।

चमोली जिले में समुद्र तल से 15225 फीट की ऊंचाई पर पवित्र तीर्थ स्थल श्री हेमकुंट साहिब । आज दोपहर 1:30 बजे श्रद्धालुओं के लिए कपाट शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए। करीब 350 श्रद्धालु अंतिम अरदास के साक्षी रहे।

शनिवार सुबह से ही हेमकुंड साहिब के कपाट बंद होने की प्रक्रिया शुरू हो गई थी। सुबह 9:30 बजे पहली अरदास, 10:00 बजे सुखमणि का पाठ और 11:00 बजे शबद कीर्तन हुआ। 12:30 पर इस साल के अंतिम अरदास पढ़ने के बाद गुरु ग्रंथ साहिब के पंच प्यारों की अगुवाई में सचखंड में विराजमान किया गया और फिर कपाट को पूरे विधि विधान के साथ शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए।

हेमकुंड साहिब और लोकपाल लक्ष्मण मंदिर के कपाट शीतकाल के लिए बंद

बता दें कि वर्ष हेमकुंड साहिब में श्रद्धालुओं की संख्या में बढ़ोतरी होती है। पिछले वर्ष लगभग 2.39 लाख से अधिक श्रद्धालु हेमकुंड साहिब पहुंचे थे, कोरोना महामारी के कारण इस साल 36 दिनों में चली इस यात्रा में लगभग 8500 श्रद्धालुओं ने हेमकुंड साहिब में मत्था टेका।

यह भी देखें- उत्तराखंड: शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया जल्द होगी पूरी, नैनीताल हाईकोर्ट ने दिया निर्देश

हेमकुंड साहिब के साथ साथ पवित्र तीर्थ लक्ष्मण मंदिर लोकपाल के कपाट भी बंद कर दिए हैं।।