उत्तराखंड: भेड़ एवं ऊन विकास बोर्ड के अनियमितता पर मुख्यमंत्री ने दिए जांच के आदेश

भेड़ एवं ऊन विकास बोर्ड खरीद मामले में मुख्यमंत्री ने दिए जांच के आदेश
ख़बर शेयर करें

भेड़ और बकरियों के पशु आहार क्रय की वित्तीय अनियमितता के शिकायतों को लेकर उत्तराखंड मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत सख्त दिखाई पड़, मुख्यमंत्री ने शिकायत को गंभीर देखते हुए भेड़ एवं ऊन विकास बोर्ड पर उच्च स्तरीय जांच के निर्देश दिए हैं।

उत्तराखंड: इस तारीख से शुरू होगी डिग्री कॉलेजों में पढ़ाई, उच्च शिक्षा मंत्री ने दिए निर्देश

सांसद मेनका गांधी ने बोर्ड पर लगाया आरोप

दरसअल हाल में ही सांसद मेनका गांधी ने भेड़ एवं ऊन विकास बोर्ड पर वित्तीय अनियमितताओं को लेकर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से सीबीआई या इडी झांक के लायक बताया। उन्होंने इस पत्र की एक प्रति प्रधानमंत्री को भी भेजी थी। उन्होंने पत्र में आरोप लगाया कि उत्तराखंड को विश्व बैंक के द्वारा मिले लोन में बोर्ड के अफसरों ने अनियमितता की है।

मेनका गांधी ने आरोप लगाया कि बोर्ड के अफसरों ने 13 लाख से अधिक की लग्जरी कार खरीदी है, और बोर्ड में बिना पद सृजित किए अफसरों को नियुक्त कर दिया। जिसे कई पशु चिकित्सालय बंद हो गए।

भेड़ बुढी़ होने का लगाया आरोप

सांसद मेनका गांधी ने ऑस्ट्रेलिया से खरीदी भेड़ों पर बुढ़ी होने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि यह खरीदारी सिर्फ कमीशन के लिए हुई है, जिसके बाद उन भेड़ों को मीट के लिए भेज दिया गया। मेनका गांधी द्वारा लिखी गई चिट्ठी सोशल मीडिया पर भी वायरल हो रही है।

बोर्ड के सीईओ ने आरोपों को खारिज किया

मेनका गांधी के आरोपों पर बोर्ड के सीईओ ने इसे निराधार बताया। बोर्ड के सीईओ अविनाश आनंद ने कहा कि पहले भी इस तरह की बातें सामने आई थी, तब बोर्ड द्वारा सारी बातें स्पष्ट रूप से रखी गई। वहीं कार खरीदने की बात पर उन्होंने कहा कि बोर्ड के अध्यक्ष के लिए अनुमति से एक कार खरीदी गई थी, और चार खरीदे पर जो बातें फैलाई जा रही है, वह सारी अफवाह है।

भेड़ एवं ऊन विकास बोर्ड खरीद मामले में मुख्यमंत्री ने दिए जांच के आदेश

उत्तरकाशी में मकर संक्रांति के पर्व पर श्रद्धालुओं ने भागीरथी में लगाई डुबकी

भेड़ एवं ऊन विकास बोर्ड पर जांच के आदेश

उत्तराखंड मुख्यमंत्री द्वारा इन शिकायतों को गंभीरता से लेते हुए भेड़ एवं ऊन विकास बोर्ड पर उच्च स्तरीय जांच के निर्देश दिए हैं। मुख्य सचिव ओमप्रकाश द्वारा कृषि उत्पादन आयुक्त श्रीमती मनीषा पंवार की अध्यक्षता में जांच समिति का गठन किया। जिसमें अपर सचिव वित्त भूपेश तिवारी भी सदस्य होंगे। जांच समिति को 15 दिनों के भीतर अपनी जांच आख्या प्रस्तुत करनी होगी।


ख़बर शेयर करें

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें