मुख्यमंत्री ने किया पलायन कर चुके उत्तराखंडियो से राज्य लौटने‌ का आग्रह

न्यूज डेस्क देहरादून – उत्तराखंंड में पलायन हमेशा एक मुद्दा रहा है. जिसको लेकर हमेशा ही राज्य सरकारें इस पर नीति बनाती है, परंतु अब पलायन को लेकर अब उत्तराखंड सरकार काफी सजग नजर आ रही है.

पलायन को लेकर सजग सरकार

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने आज प्रेस वर्ता जारी करके कहा कि दूसरे राज्यों में रह रहे लोगों को वापस आकर अपने राज्य के विकास कार्य में अपना योगदान करें. उन्होंने कहा कि उत्तराखंड के पास प्रकृति का दिया हुआ बहुत कुछ है जिस का सदुपयोग करके हम विकास कर सकते हैं.

यह भी देखें- मुसीबत में देवदूत बनकर आए उत्तराखंड के युवा, लोगों ने दी दुआएं

मुख्यमंत्री ने कहा कि किसी भी क्षेत्र का विकास तभी संभव है जब वहां जागरूक और शिक्षित लोग रहेंगे. साथ में उन्होंने कहा कि किसी भी क्षेत्र का विकास तभी संभव है, जब वहां के लोगों के पास इन्वेस्टमेंट करने के लिए पैसा होगा. उन्होंने कहा कि यदि हम पैसा लेकर दूसरी जगह जाएंगे तो क्षेत्र का विकास कैसे होगा.

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने लोगों से अपने राज्य वापस आने की अपील की. उन्होंने कहा कि यदि हम देहरादून रहकर पहाड़ की सोचेंगे तो यह संभव नहीं है. हमें पहाड़ की जरूरतों और संसाधनों के हिसाब से उनका उपयोग कर हम वहां का विकास कर सकते हैं.

यह भी पढ़े- टिहरी गढ़वाल के युवक ने बनाए कैमिकल्स फ्री साबुन, भीमल व कंडाली का किया उपयोग

उत्तराखंड मुख्यमंत्री हुए गैरसैंण में भूमिधर

आपको बता दें कि उत्तराखंड सरकार ने गैरसैण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बना दी है. वहीं इस बार 15 अगस्त को मुख्यमंत्री द्वारा गैरसैंण में पहली बार झंडा फहराया गया. प्राप्त जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री द्वारा गैरसैंण में जमीन ले ली गई और अब वह गैरसैंण में भूमिधर हो गए हैं

पलायन को लेकर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने लोगों से राज्य में ही रहकर विकास कार्य में योगदान देने की अपील की है.