अब पति के साथ पत्नी को भी मिलेगा जमीन में मालिकाना हक, एक्ट में होगा संशोधन

3
269

हिन्दू लाइव डेस्क – उत्तराखंड सरकार जल्द ही जमींदारी भूमि विनाश अधिनियम में संशोधन कर सकती है, जिसके साथ अब पति के साथ पत्नी को भी जमीन में मालिकाना हक मिलेगा.

जानकारी के अनुसार भूमि विनाश अधिनियम संशोधन के लिए राज्य सरकार 24 जुलाई को बैठक कर सकती है.

यह भी पढ़े- कंगना रनौत से जल्द मिल सकते हैं सुब्रमण्यम स्वामी, कानूनी लड़ाई में करेंगे मदद

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सोमवार को एक कार्यक्रम के दौरान इस योजना को लागू करने का ऐलान किया. उत्तराखंड की सबसे बड़ी समस्या पलायन को रोकने के लिए राज्य सरकार इस योजना पर जल्द ही बैठक करने वाले हैं.

जमीन में मालिकाना हक मिलने से महिलाओं का होगा फायदा

यदि राज्य सरकार का यह योजना कामयाब होता है, तो राज्य में रहने वाली महिलाओं के लिए यह एक खुशखबरी है. उत्तराखंड में जमीन पर मालिकाना हक परंपरागत वंश के अनुसार चलती है, जिससे महिलाओं को कई बार सरकार की विभिन्न सुविधाओं के लाभ उठाने में समस्या होती है. इस योजना के शुरू होने से महिलाओं की बैंक लोन जैसी कई समस्याएं खत्म हो जाएंगे और महिलाएं आत्मनिर्भरता में आगे बढ़ेंगी.

यह भी पढ़े – देश में चल रही महामारी के दौरान सोनू सूद एक सुपर हीरो के रूप में उभर कर आए

उत्तराखंड में पिछले कई समय से चकबंदी की मांग उठ रही है. जिसका जिक्र कल मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत द्वारा किया गया. उन्होंने कहा कि चकबंदी करने मैं बंदोबस्ती ना होना एक सबसे बड़ी समस्या है. बंदोबस्ती होने के बाद ही उत्तराखंड में चकबंदी संभव है. बंदोबस्ती के बाद अब उत्तराखंड में चकबंदी लागू कर सकते हैं.

उत्तराखंड राज्य को अग्रणी करने में हमेशा ही महिलाओं का प्रथम स्थान है. जमीन में मालिकाना हक मिलने से महिलाएं आत्मनिर्भर के रूप में आगे बढ़ सकते हैं. उत्तराखंड सरकार का यदि यह योजना कामयाब होती है. तो काफी हद तक पलायन पर इससे रोक लग सकती है।