रुद्रप्रयाग के अंकित बुटोला बने नाॅर्वे में वैज्ञानिक, सरस्वती शिशु मंदिर से की थी पढ़ाई

ख़बर शेयर करें

देश दुनिया में उत्तराखंड के युवा अपनी प्रतिभाओं का परचम लहरा रहे हैं। ऐसी ही एक प्रतिभा का उदाहरण बनी रुद्रप्रयाग के अंकित बुटोला। रुद्रप्रयाग के अगस्त्यमुनि निवासी डॉ. अंकित बुटोला का नाॅर्वे के यूआईटी द आर्कटिक विश्वविद्यालय में पोस्ट डाॅक्टरेट वैज्ञानिक के रुप में चयन हुआ है।

विधायक महेश नेगी को डीएनए सैम्पलिंग को लेकर राहत, हाईकोर्ट ने लगाई रोक

उत्तराखंड के जनपद रुद्रप्रयाग के अगस्त्यमुनि ब्लॉक के ग्राम बष्टा निवासी अंकित एक साधारण परिवार से हैं। इनके पिता जीतपाल बुटोला आयुर्वेदिक फार्मासिस्ट तथा माता गृहणी है। जीतपाल बुटोला के बड़े बेटे बैंक ऑफ इंडिया में मैनेजर तथा दूसरे बेटे नोवाल्टिस फार्मा कंपनी में बतौर साइंटिस्ट कार्य करते हैं।

अंकित सिंह बुटोला की शिक्षा भी पहाड़ में ही हुई, प्रारंभिक शिक्षा उन्होंने सरस्वती शिशु मंदिर और राजकीय इंटर कॉलेज अगस्त्यमुनि से पास की। एचएनबी गढ़वाल विश्वविद्यालय से अंकित ने वर्ष 2012 में स्नातक किया तथा जीबी पंत यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चर एंड टेक्नोलॉजी में भौतिकी में साल 2015 में मास्टर डिग्री प्राप्त की। इस दौरान अंकित ने नेट-जेआरएफ, गेट, जेस्ट और भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र की परीक्षा में भी सफलता अर्जित की।

आईआईटी दिल्ली से अंकित ने वर्ष 2020 में पीएचडी डिग्री हासिल की, जिसमें उन्होंने 2 पेटेंट तथा 25 से भी अधिक रिसर्च पेपर प्रकाशित हुए। बता दें कि हाल में ही अंकित बुटोला को भौतिकी विभाग, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान दिल्ली से डॉक्टरेट की उपाधि से सम्मानित किया गया।

रुद्रप्रयाग के अगस्त्यमुनि निवासी डॉ. अंकित बुटोला का नाॅर्वे के यूआईटी द आर्कटिक विश्वविद्यालय में पोस्टडाॅक्टरल वैज्ञानिक के रुप में चयन हुआ है।

उत्तराखंड में मुख्यमंत्री का चेहरा को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कह दी बड़ी बात

डॉक्टर अंकित बुटोला ने अपनी इस सफलता का श्रेय अपने पिता, दादा और परिवार को दिया है। अंकित की सफलता पर स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने भी खुशी जाहिर की तथा बधाई दी।


ख़बर शेयर करें

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें