उत्तराखंड के जनपद चमोली में ग्लेशियर फटने की खबर आ रही है, बताया जा रहा है कि पैंग के ऊपर एक बड़ा ग्लेशियर फटने की से धौली नदी में बाढ़ आ गई है‌। वही चमोली पुलिस ने ग्लेशियर फटने की वजह से ऋषि गंगा पावर प्रोजेक्ट को भारी क्षति की पुष्टि की है। इसके अतिरिक्त एनटीपीसी निर्माणाधीन तपोवन विष्णुगाढ़ जल विद्युत परियोजना के डैम साइड बैराज साइट को भी नुकसान होने की सूचना मिल रही है, हालांकि अभी तक इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।

प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत का पलटवार, कहा हरीश रावत की मनमानी से भागे विधायक

मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन पुलिस विभाग और आपदा प्रबंधन को इस आपदा से निपटने के आदेश दे दिए हैं, साथ ही मुख्यमंत्री ने किसी भी प्रकार की अपवाह पर लोगों को ध्यान ना देने की अपील की हैं।

चमोली में ग्लेशियर फटने की खबर

चमोली पुलिस द्वारा नदी किनारे बसे बस्तियों और गांव को और लाउडस्पीकर के माध्यम से अलर्ट कर रही है। इसके साथ ही टिहरी, हरिद्वार और ऋषिकेश में भी अलर्ट जारी किया गया है। बताया जा रहा है कि ग्लेशियर फटने से काफी नुकसान हुआ है परंतु अभी तक इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।

घटनास्थल का जायजा लेने के लिए मुख्यमंत्री भी रवाना हो चुके हैं। मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील की है कि इस समय पर कोई पुरानी वीडियो फैलाकर भ्रम की स्थिति उत्पन्न ना करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि आपदा से निपटने के लिए सभी जरूरी कदम उठा लिए गए हैं। कृपया आपदा परिचालन केंद्र के नम्बर 1070 या 9557444486 पर संपर्क करें।

मुख्यमंत्री ने बताया कि एहतियातन के तौर पर भागीरथी नदी का फ्लो रोक दिया गया है। अलकनन्दा का पानी का बहाव रोका जा सके इसलिए श्रीनगर डैम तथा ऋषिकेष डैम को खाली करवा दिया है। SDRF अलर्ट पर है। सरकारी प्रमाणिक सूचनाओं पर ही ध्यान दें, और मैं स्वयं घटनास्थल के लिए रवाना हो रहा हूं।