जब किसी इंसान को प्यार हो जाता है तो वह उस प्यार में ऐसे को जाता है कि प्रेमी को छोड़कर सब कुछ भूल जाता है। परंतु प्यार में धोखा खाने के बाद कई लड़के जहां अपनी जिंदगी बर्बाद कर देते हैं, वहीं देहरादून के युवक ने ब्रेकअप होने पर दिल टूटा आशिक कैफे खोल दिया।

दिल टूटा आशिक कैफे के बारे में

देहरादून के 21 वर्षीय दिव्यांशु का लॉकडाउन के दौरान ब्रेकअप हो गया। दिव्यांशु का यह प्यार हाई स्कूल से शुरू हुआ था। अपने प्यार के खोने पर दिव्यांशु डिप्रेशन में आ गया, साथ ही पब्जी गेम खेलने का आदि बनते जा रहा था। बढ़ते समय के साथ दिव्यांशु ने कुछ अलग करने के ठानी और जीएमएस रोड़ पर दिल टूटा आशिक कैफे खोला।

पिता इस नाम से नहीं थे खुश

दिव्यांशु के पिता उसके इस काम से खुश थे परन्तु उन्हें कैफे का नाम सही नहीं लगा। दिव्यांशु की मां ने इस काम में पूरा साथ दिया। जब दिव्यांशु के एक दोस्त ने (दोस्त को पता नहीं था कि वह कैफे दिव्यांशु का है) उस कैफे की तारीफ दिव्यांशु के पिता से की, तब उन्हें लगा कि उनका बेटा सही कार्य कर रहा है।

ब्रेकअप हुआ तो खोला दिल टूटा आशिक कैफे, जानिए देहरादून के युवक की कहानी

यह कैफे की शुरुआत इसलिए की, ताकि उनके दिल का दर्द बयां हो सके और लोग उनके कैफे पर आकर अपने ब्रेकअप की कहानियां शेयर करें। जिससे कि मैं उनको इस दुख से बाहर निकलने में मदद करुं, ताकि वह आगे चलकर कामयाब बने।

दिव्यांशु ने बताया कि काफी लोग कैफे में आ रहे हैं और अपने कहानियां शेयर कर रहे हैं। दिव्यांशु के साथ उसका छोटा भाई राहुल भी कैफे संभालने में मदद कर रहा है।

प्राइमरी विद्यालयों को छोड़कर उत्तराखंड में विद्यालय खोलने की तैयारी, पढ़े पूरी जानकारी

मनरेगा पर उत्तराखंड सरकार का बड़ा फैसला, 100 की जगह 150 दिनों का मिलेगा रोजगार