कमल रावत की मौत पर जांच के आदेश जारी, मृतक आश्रित को मिलेगा 4 लाख का मुआवजा

न्यूज डेस्क हल्द्वानी- हल्द्वानी में बीते दिनों हाईटेंशन तार की चपेट में कमल रावत की मौत हुई थी जिसको लेकर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने ऊर्जा विभाग की लापरवाही को गंभीरता से लिया है।

यह भी देखें- पर्यटकों के लिए अच्छी खबर, इस तारीख से खुलेंगे राजाजी टाइगर रिजर्व

उत्तराखंड मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस घटना पर गहरा दुख जताया तथा इस पूरे मामले की जांच के निर्देश दिए हैं। उन्होनें उर्जा सचिव राधिका जहां को जिम्मेदार लापरवाह अफसरों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। ऊर्जा सचिव ने भी इस घटना पर दुख प्रकट किया।

मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद इस मामले में सीनियर स्तर के अधिकारी मुख्य अभियंता एम. एल. प्रसाद को जांच अधिकारी नामित कर उनसे रिपोर्ट मांगी है। 3 सदस्य जांच कमेटी की प्रथम रिपोर्ट में इस घटना में एसएचओ की लापरवाही प्रतीत हो रही है। इस तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति ना हो इसके लिए निचले स्तर के तकनीकी अधिकारियों को तकनीकी रूप से प्रशिक्षित किया जाएगा।

ऊर्जा सचिव राधिका झा ने बताया कि मृतक आश्रित को तत्काल चार लाख का मुआवजा दिया जा रहा है और साथ ही मुख्यमंत्री विवेकाधीन कोष से भी सहायता की कोशिश की जाएगी।

यह भी पढ़े- अल्मोड़ा में कोरोना संक्रमण मामलों में तेजी से हो रही बढ़ोतरी, 5 दिनों में मिले 365 नए मामले

घटना नैनीताल जनपद स्थित हल्द्वानी की जहां शुक्रवार सुबह एक युवक अपनी साइकिल पर सवार होकर ड्यूटी के लिए रवाना हुआ। रास्ते में नैनीताल रोड़ के पास 1100 कीवी की हाइटेंशन तार की चपेट में आने से कमल रावत की मौके पर ही मौत हो गई ।