मुसीबत में देवदूत बनकर आए उत्तराखंड के युवा, लोगों ने दी दुआएं

125

न्यूज डेस्क नैनीताल- इस समय उत्तराखंड में नदी नालों में पानी का अत्यधिक बहाव बढ़ रखा है. ऐसे में ही एक परिवार नदी में फस गया था. इस मुसीबत में देवदूत बनकर आए उत्तराखंड के युवा, जिन्होंने मुसीबत में फसे परिवार की पूरी मदद की.

यह भी पढ़े- गलवां घाटी में झड़प के दौरान घायल हुआ उत्तराखंड का जवान शहीद, 31 को‌ होना था रिटायर

उत्तराखंड के काशीपुर निवासी गौरव पांडे व उनके दोस्त किसी कार्य से रामनगर गए हुए थे. हरियाणा के एक परिवार रामनगर मार्चुला मार्ग पर एक ऑडी Q7 रामनगर नदी पार कर रहे थे, पार करते समय उनकी गाड़ी बंद हो गई जिसकी वजह से गाड़ी बहने लगी थी.

इस जगह पर इतनी आसानी से मदद भी नहीं मिलने वाली थी, इत्तेफाक कहे या उनकी किस्मत, मुसीबत में देवदूत बनकर आए यह उत्तराखंड के युवा उनकी मदद के लिए आगे आए. युवाओं ने दूसरी गाड़ी को कॉल करके मदद के लिए बुलाया परंतु गाड़ी निकालते समय वह भी फस गई. जिसके बाद सभी दोस्तों ने मिलकर गाड़ी को धक्का मारते हुए नदी से दोनों गाड़ियों को बाहर निकाल दिया.

यह भी पढ़े- उत्तराखंड में कोरोना संक्रमित आंकड़ा हुआ 12175 पार, आज मिले 235 नए मामले

युवाओं द्वारा मदद करने के बाद फंसे हुए परिवार ने युवाओं को ₹20000 देने लगे, परंतु युवाओं द्वारा यह कहकर मना कर दिया कि मेहनत के पैसे लगते हैं ना की मदद करने के. युवाओं ने कहा कि मदद करना हमारा फर्ज है. जिसके बाद से परिवार ने युवाओं को दुआ देते हुए धन्यवाद किया.

उत्तराखंड के युवाओं द्वारा किया गया काम वाकई सराहनीय है, ऐसे कार्य से ही देव भूमि का नाम उजागर होता है.