केदारनाथ आपदा में गुमशुदा लोगों के कंकालों की शुरू हुई खोजबीन, बनाई गई 10 टीमें

उत्तराखंड में 2013 में आई केदारनाथ आपदा को कौन भूल सकता है। 16-17 जून का दिन उत्तराखंड के लिए काला दिन था। इस आपदा में उत्तराखंड के कई क्षेत्रों में काफी जान माल का नुकसान हुआ है। केदारनाथ आपदा में कई गुमशुदा लोगों के कंकाल अभी तक भी नहीं मिले हैं। अब एक बार फिर इस आपदा में मरे लोगों के कंकालों की खोजबीन शुरू हो गई है

यह भी देखें- उत्तराखंड: सितंबर माह के 15 दिनों में टूटे कोरोनावायरस के कई रिकॉर्ड

मिली जानकारी के मुताबिक गुमशुदा लोगों के कंकालों को ढूंढने के लिए 10 टीम गठित की गयी हैं। जिसको लेकर गोरीकुंड- केदारनाथ पैदल मार्ग सहित अन्य मार्गो पर एक हफ्ते तक खोजबीन अभियान चलाया जायेगा।

गढ़वाल रेंज के आईजी अभिनव कुमार ने कहा कि एसपी रुद्रप्रयाग के नेतृत्व में 10 टीमें बनाई गई है। जिसमें स्थानीय लोगों की मदद दी जाएगी। पिछले 6 सालों में इस मामले में कई खोजबीन अभियान चलाए गए। जिनके मुताबिक 600 से अधिक कंकाल मिले हैं।

केदारनाथ आपदा में गुमशुदा लोगों के कंकालों की फिर से होगी खोजबीन
image source social media

गढ़वाल रेंज के आईजी श्री अभिनव कुमार ने बताया कि गुमशुदा हुए लोगों की संख्या और प्राप्त शव की संख्याओं में काफी अंतर है। अभी भी रामबाड़ा और केदारनाथ में कई जगह पर मलबा पड़ा हुआ है। ऐसी जगहों पर सर्च अभियान चलाया जाएगा।

यह भी देखें- पलेठी गांव निवासी आनंद सिंह नेगी को उत्तराखंड पुलिस ने किया सम्मानित

मिली जानकारी के मुताबिक केदारनाथ आपदा में लापता हुए लोगों के कंकालों को ढूंढने के लिए 10 टीमें बनाई गई है, कंकालों के मिलने पर उनका डीएनए मैच किया जाएगा। यह सर्च अभियान लगभग 1 हफ्ते तक चलाया जाएगा।