देवभूमि के लाडले राकेश ने पेश की इमानदारी की मिसाल, 25 लाख की अंगूठी लौटाई वापस

जहां एक तरफ प्रतिदिन समाचारों में धोखेबाजी लूट-पाट के किस्से सुनने और देखने को मिलते हैं, ऐसे मैं कुछ ऐसे किस्से सामने आ जाते हैं जिनसे लगता है कि समाज में ईमानदारी अभी भी जीवित है। ऐसे ही देवभूमि के लाडले राकेश रावत ने केदारनाथ में अपनी ईमानदारी की मिसाल पेश की।

यह भी देखें- देहरादून: शनिवार और रविवार बंद रहेंगीं दुकाने, दून उद्योग व्यापार मंडल ने लिया निर्णय

बता दें कि 14 सितंबर को राजस्थान के अलवर निवासी राजन शर्मा केदारनाथ की यात्रा पर आए हुए थे। केदारनाथ दर्शन के दौरान उनकी अंगूठी कहीं गिर गई थी, परंतु जब तक उन्हें इस बात का ज्ञान हुआ तब तक काफी समय बीत चुका था। राजन द्वारा अपने 25 लाख की अंगूठी की काफी खोजबीन की, परंतु उन्हें यह अंगूठी नहीं मिल पाई जिस वजह से वह काफी परेशान हो गए थे। केदारनाथ क्षेत्र में यह 25 लाख की अंगूठी काफी चर्चा का विषय बन गई।

केदारनाथ के राकेश रावत ने 25 लाख  की अंगूठी लौटाई
imahe credit social media

देवभूमि के लाडले राकेश रावत ने लौटाई अंगूठी

मिली जानकारी के अनुसार रुद्रप्रयाग जिला के रामपुर न्यालसू के निवासी राकेश रावत को यह अंगूठी मिली। जिसके बाद उन्होंने उस यात्री तक संपर्क करना शुरू किया और वह उस राजस्थान के यात्री तक पहुंचे। यात्री के मिलने के बाद राकेश ने वह अंगूठी उन्हें वापस लौटा दी।

खोई हुई अंगूठी से परेशान राजन शर्मा को अंगूठी वापस मिलने पर खुशी का ठिकाना ना रहा और उसका स्वरूप राकेश रावत को ₹51000 दिए।

यह भी देखें- उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण, पिछले 5 दिनों में मिले 6 हजार से ज्यादा संक्रमित मामले

देवभूमि उत्तराखंड हमेशा इमानदारी के लिए जानी जाती है जिसका उदाहरण देवभूमि के लाडले राकेश रावत ने एक बार पुनः प्रस्तुत किया। राकेश रावत ने अपनी ईमानदारी की मिसाल पेशकर देवभूमि के नाम पर चार चांद लगा दिए हैं। ईमानदारी की मिसाल की यह कहानी सुनकर हर कोई उसकी प्रशंसा कर रहा है।