केदारनाथ धाम की यात्रा के बाद ट्रैकिंग पर गये चार युवक हुये लापता

हिन्दू लाइव डेस्क – केदारनाथ धाम की यात्रा के बाद ट्रैकिंग पर गये चार युवक हुये लापता, SDRF टीम द्वारा खोजबीन जारी, अभी तक नहींं मिला कोई सुराग.

कोविड-19 के बाद अनलॉक 2 की नई गाइडलाइन के अनुसार राज्य सरकारों ने धार्मिक स्थलों को खोलने की अनुमति दे दी गई है. जिससे उत्तराखंड में अब चार धाम यात्रा शुरू हो गई है, परंतु इस यात्रा में केवल उत्तराखंड राज्य के लोग ही जा सकते हैं.

यह भी पढ़े – PETA INDIA का रक्षाबंधन पर किया गया पोस्ट फिर विवादों में

केदारनाथ धाम दर्शन के बाद निकले थे ट्रेकिंग के लिए

13 जुलाई को नैनीताल और देहरादून जिले के मोहित भट्ट, हिमांशु गुरुंग, हर्ष भंडारी और जगदीश भट्ट अपने एक साथी के साथ केदारनाथ दर्शन के लिए निकले थे. प्राप्त जानकारी के अनुसार केदारनाथ दर्शन के बाद इनका एक साथी वापस सोनप्रयाग आ गया और चारों दोस्त वासु की ताल गये और फिर वहां से त्रियुगीनारायण के लिए पैदल ट्रैकिंग पर चले गए थे. जिसके बाद से चार युवक हुये लापता.

ट्रैकिंग पर गये चारों युवकों से नहीं हो पा रहा संपर्क

सोनप्रयाग पहुंचे यात्री के द्वारा जब अपने दोस्तों से लगातार संपर्क साधने के बाद भी संपर्क नहीं हो पाया तो उन्होने इसकी सूचना सोनप्रयाग थाने में दे दी. ट्रैकिंग पर गए चारों युवकों की तलाश में अब तक कई सर्च अभियान चलाए जा रहे हैं, परंतु अभी तक चारों यात्रियों की कोई खबर नहीं आई है.

यह भी पढ़े लॉकडाउन की अफवाह को मुख्यमंत्री ने बताया निराधार, दिए जांच के आदेश

सोनप्रयाग पर रजिस्ट्रेशन करा कर गए थे केदारनाथ धाम

प्राप्त जानकारी के अनुसार पांचो यात्री सोनप्रयाग से रजिस्ट्रेशन करवाने के बाद ही केदारनाथ धाम गए थे, परंतु अभी तक इस मामले में कोई भी सुराग नहीं मिले हैं.

ट्रैकिंग पर गये युवकों की खोजबीन जारी

14 जुलाई को पुलिस द्वारा केदारनाथ क्षेत्र से वासुकी ताल तक गए चारों यात्रियों को ढूंढा गया. किसी भी प्रकार की जानकारी ना मिलने के बाद SDRF को सूचित किया गया. इस दौरान खराब मौसम होने से सर्चिंग में काफी समस्या आई, परंतु अभी तक SDRF टीम को इस मामले में कोई सफलता नहीं मिली.

प्राप्त जानकारी के अनुसार कल दिनांक 15 जुलाई को एसडीआरएफ श्रीमती तृप्ति भट्ट द्वारा SDRF के टीमों को तीन ट्रैकिंग रूटों पर खोजबीन के लिए भेजा गया है. जिसमें से 5 SDRF 5 पुलिस और 2 पोर्टर को केदारनाथ से त्रियुगीनारायण, दूसरी टीम मैं पांच SDRF, दो आपदा सदस्य सोनप्रयाग मून कुटिया से वासु की ताल और आखरी टीम हवाई माध्यम से खोजबीन जारी रखेगी.