उत्तराखंड:विद्यालय खोलने के लिए एसओपी जारी, पढ़े दिशा-निर्देश

2

उत्तराखंड में कक्षा 10वीं और 12वीं के छात्र छात्राओं के लिए 2 नवंबर से स्कूल खुल रहे हैं। उत्तराखंड सरकार ने विद्यालय को खोलने को लिए एसओपी जारी कर दी है। जिसके अनुसार अधिक छात्र आने पर विद्यालय दो पालियों में चलाए जा सकते हैं।

यह भी पढ़े- जिलाधिकारी मयूर दीक्षित पहुँचे यमनोत्री धाम, निर्माण कार्यों का किया निरीक्षण

चल रही महामारी के कारण सरकार के लिए अभिभावकों तथा बच्चों का विश्वास जीतना सबसे बड़ा मुश्किल कार्य है। बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए अभिभावक अभी बच्चों को स्कूल भेजने से बच रहे हैं, हालांकि सुरक्षा को लेकर सरकार के काफी दावे किए जा रहे हैं, परंतु अभिभावक इस मामले को लेकर अभी पूर्णता आश्वस्त नहीं है। अभिभावकों के विश्वास जीतने के बाद ही छात्र स्कूल आने को तैयार हो सकेंगे।

विद्यालय खोलने के लिए एसओपी जारी

उत्तराखंड सरकार ने कक्षा 10वीं और 12वीं के छात्रों के लिए स्कूल खोलने का निर्णय ले लिया है, जिसके तहत सरकार ने अशोक जारी कर सभी स्कूलों की जिम्मेदारी भी तय कर दी है।

  • दो पालियों में चलाए जा सकते हैं विद्यालय
  • विद्यालय ना आने वाले छात्रों के लिए ऑनलाइन माध्यम जारी रहेगा
  • एक क्लास में अधिकतम 50% छात्र ही बैठेंगे
  • 6 फीट की दूरी पर बैठने की व्यवस्था
  • खेल-कूद और मनोरंजन संबंधित गतिविधियां बंद रहेंगी।

उत्तराखंड में विद्यालय खोलने के लिए एस ओ पी में कहा गया है कि विद्यालय में छात्रों को 6 फीट की दूरी बैठने की व्यवस्था की जाए। छात्रों की अधिक संख्या में विद्यालय को दो शिफ्ट में चलाया जा सकता है। दो शिफ्ट में चलाए जाने पर पहले शिफ्ट में कक्षा 10वीं और दूसरी में कक्षा 12वीं के छात्र छात्राओं को बुलाया जाएगा।

विद्यालय ना आने वाले छात्रों के लिए पहले की तरह ऑनलाइन शिक्षा जारी रहेगी। जारी एसओपी के अनुसार 1 कक्षा में अधिकतम 50% छात्र ही बैठेंगे।

विद्यालय खोलने के लिए जारी एसओपी के अनुसार स्कूल खोलने से पहले और हर पाली के बाद सैनिटाइज किया जाएगा। विद्यालयों में सैनिटाइजर हैंड वास थर्मल स्क्रीनिंग तथा प्राथमिक उपचार की व्यवस्थाएं सुनिश्चित होगी। विद्यालय में मनोरंजन तथा खेलकूद जैसी गतिविधियां प्रतिबंधित रहेंगीं। स्कूल वाहनों को प्रतिदिन दो बार सेनीटाइज किया जाएगा।

यह भी देखें- उत्तराखंड: कर्मचारियों के वेतन देने के लिए रोडवेज की जमीन बेचने की तैयारी में सरकार

विद्यालय खोलने के दौरान यदि किसी छात्र शिक्षक और कर्मचारी में खांसी जुकाम या बुखार के लक्षण हो तो उन्हें प्राथमिक उपचार देकर घर भेज दिया जाएगा।