उत्तराखंड: कोर्ट के फैसले से असहज त्रिवेन्द्र सिंह रावत पहुंचे सुप्रीम कोर्ट

ख़बर शेयर करें

देहरादून. मंगलवार को सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत पर लगे करप्शन के आरोपों की जांच के नेनीताल हाइकोर्ट ने सीबीआई जांच के निर्देश दिए थे। जिस फैसला को लेकर असहज दिख रही उत्तराखंड सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। इसकी जानकारी बीजेपी के मुख्य प्रवक्ता मुन्ना चौहान ने दी।

समाचार टीवी के मुखिया उमेश कुमार ने मुख्यमंत्री पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे। सीएम रावत पर आरोप है कि उन्होंने अपने संबंधियों से पैसों का लेन-देन किया है। जिसे राज्य सरकार ने बेबुनियाद बताया है और हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई है।

कांग्रेस ने मांगा सीएम पद से इस्तीफा

कोर्ट की सुनवाई के बाद अब कांग्रेस पार्टी के नेताओं ने त्रिवेन्द्र सिंह रावत के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने की मांग की है। कांग्रेसियों ने बुधवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत समेत अन्य नेता मौजूद रहे। कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री का इस्तीफा न होने तक कांग्रेस अपना विरोध अभियान जारी रखेगी।

यह था पूरा मामला

दरअसल टीवी चैनल के पत्रकार उमेश कुमार ने सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत पर करप्शन के आरोप लगाए थे। जिसके बाद नेनीताल हाइकोर्ट ने मामले की सुनवाई करते हुए मुख्यमंत्री के खिलाफ मामला दर्ज कर सीबीआई को जांच करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही हाइकोर्ट ने उमेश के खिलाफ सीएम की छवि विगाडने को लेकर हुई FIR भी रद्द कर दिया है।


ख़बर शेयर करें

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें