उत्तरकाशी: ड्यूटी से घर लोटे सैनिक को पहले बताया कोरोना नेगेटिव, बाद में पाज़िटिव

हिन्दू लाइव डेस्क – वैश्विक महामारी कोरोना से पूरा देश जूझ रहा है ऐसे में असम से अपने शहर उत्तरकाशी लोटे जवान ने प्रशासन पर आरोप लगाया है कि पहले मेरी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव बताई और होम क्वारंटाइन के आदेश दिए लेकिन बाद में पाज़िटिव है इसकी जानकारी दूसरे दिन दी गई.

छुट्टी पर आए सैनिक ने लगाया जनपद प्रशासन पर आरोप

यह भी पढ़े- उत्तराखंड: कोरोना से मरने वालों की संख्या 100 के पार, देहरादून में सर्वाधिक मौतें

विपिन ने हिन्दू लाइव टीम को बताया कि वह 1 अगस्त को असम से उत्तरकाशी आये और 2 तारीख को उन्हें सिवानंद आश्रम उत्तरकाशी में क्वॉरेंटाइन किया गया. 2 तारीख को ही इनका कोविड-19 का सैंपल लिया गया. स्वास्थ्य विभाग द्वारा इन्हें 5 तारीख को बताया गया कि आपकी कोविड-19 रिपोर्ट नेगेटिव और आप अपने को होम क्वॉरेंटाइन कर सकते हैं. स्वास्थ्य विभाग द्वारा उन्हें कोविड-19 नेगेटिव की 2 पर्ची दी गई. कोविड रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद विपिन ने अपने को हम क्वारंटाइन कर लिया था.

स्वास्थ्य विभाग ने बताया कोरोना पॉजिटिव

6 अगस्त को स्वास्थ्य विभाग ने विपिन से संपर्क किया और उन्हें बताया कि आपकी कोविड-19 रिपोर्ट पॉजिटिव है, जिसके बाद उन्हें फिर हॉस्पिटल लाया गया. जहां से उन्हें उत्तरकाशी के गढ़वाल मंडल भवन में शिफ्ट कर दिया गया.

यह भी पढ़े भूमिपूजन और शिलान्यास पर उत्तराखंड मुख्यमंत्री ने कहा, यह नए युग का सूत्रपात हुआ

विपिन ने बताया कि आज 7 अगस्त तक किसी भी अधिकारी ने उनसे संपर्क नहीं किया और ना ही उनका कोविड-19 का सैंपल लिया गया. हालांकि अब इन्हें सीएमओ द्वारा संपर्क किया गया और सीएमओ ने इस मामले में अपनी गलती मानी है.

एक तरफ उत्तराखंड में कोरोना वायरस बड़ी तेजी से फैल रहा है, दूसरी तरफ इस तरह के मामले आना स्वास्थ्य विभाग के कार्य प्रणाली पर सवाल खड़े करते हैं. ऐसे लोगों पर सरकार को सख्त से सख्त कार्यवाही करनी चाहिए.