हरिद्वार में आयोजित हो रहे कुंभ मेले को राज्य सरकार पूरी तैयारियों में जुटा हुआ है। जिसको लेकर उत्तरकाशी में पीआरडी जवानों का प्रशिक्षण शुरू हो गया है।

पिता के डर से बेटियों ने जंगल में गुजारी रात, यौन शोषण और मारपीट का आरोप

उत्तरकाशी में शुरु हुआ पीआरडी जवानों का प्रशिक्षण

उत्तराखंड युवा कल्याण एवं प्रांतीय रक्षक दल की ओर से पार्टी जवानों को कुंभ मेले में ड्यूटी के लिए तैयार किया जा रहा है। पीआरडी जवानों को इस तरह से प्रशिक्षित किया जा रहा है कि कुंभ मेले के दौरान किसी भी आपातकाल स्थिति में वह निपट सके।आपदा प्रबंधन विभाग के मास्टर ट्रेनर और क्यूआरटी टीम के सदस्य प्रशिक्षण शिविर के दौरान जवानों को आपातकालीन स्थिति में निपटने के गुर सिखा रहे हैं।

इसके साथ ही रैपलिंग, जुमारिंग के अलावा रिवर क्रॉसिंग का भी प्रशिक्षण दिया जा रहा है। पीआरडी जवानों का प्रशिक्षण को लेकर उत्तराखंड युवा कल्याण एवं प्रांतीय रक्षक दल विभाग ने उत्तरकाशी में प्रशिक्षण शिविर लगाया है। जिसमें 200 पीआरडी जवान प्रशिक्षण ले रहे हैं, और इसमें 14 महिलाएं भी शामिल है।

हरिद्वार में आयोजित कुंभ के लिए शुरु हुआ पीआरडी जवानों का प्रशिक्षण

इस प्रशिक्षण शिविर में पीआरडी जवानों को आपातकालीन स्थितियों में निपटने के गुर तथा आपातकालीन स्थिति में श्रद्धालुओं की की मदद का प्रशिक्षण दिया जा रहा, साथ ही पीआरडी जवानों को यह बताया जा रहा है, कि पुलिस के साथ तालमेल के साथ काम किया जाए और हर स्थिति में उनकी मदद के लिए तैयार रहें।

कुंभ मेले की अवधि घटाई गई

बता दें कि कोरोना काल के चलते कुंभ मेले की अवधि घटाई गई है। कुंभ मेला 1 अप्रैल से 30 अप्रैल तक चलेगा। कुंभ स्नान के लिए आने वाले श्रद्धालुओं को पंजीकरण कराना आवश्यक है, और साथ ही कुंभ में आने वाले यात्रियों के पास कोरोना नेगेटिव की रिपोर्ट होना अनिवार्य है। कोरोना काल के चलते राज्य सरकार द्वारा कुंभ के लिए गाइडलाइन जारी की गई है। जिसका पालन करना अनिवार्य है।

कुंभ मेले की अवधि घटाने के साथ ही शाही स्नान में भी कमी की गई है। जहां हर कुंभ मेले में पहले 4 स्थाई सन होते थे वहां इस बार केवल तीन शाही स्नान होंगे। पहला शाही स्नान 12 अप्रैल, दूसरा शाही स्नान 14 अप्रैल और तीसरा शाही स्नान 27 अप्रैल पूर्णिमा के दिन होगा।