उत्तराखंड

Uttarakhand- (बड़ी खबर) चारों धामों में तीर्थयात्रियों की सीमित संख्या की बाध्यता समाप्त, आदेश जारी

पर्यटन विभाग ने इस बार केदारनाथ बद्रीनाथ सहित चारों धामों में दर्शन के लिए सीमित संख्या तय की गई थी लेकिन अब चारों धामों में तीर्थयात्रियों की सीमित संख्या की बाध्यता को समाप्त कर दिया गया है जिसके लिए शासन की ओर से आदेश जारी कर दिए गए हैं।

यह भी पढ़ें- नौकरी दिलाने के नाम पर जमा किए पासपोर्ट, वापस मांगने पर 10 हजार की डिमांड

गौरतलब है कि चार धाम यात्रा को लेकर शासन प्रशासन तैयारियों में जुटा हुआ है लेकिन बीते वर्ष श्रद्धालुओं की बढ़ती भीड़ को देखते हुए इस साल प्रशासन ने चारों धामों में तीर्थयात्रियों की प्रतिदिन दर्शन की संख्या सीमित की थी जिसके बाद तीर्थ पुरोहित तथा व्यापारी इस प्रतिबंध को हटाने की मांग कर रहे थे। 

शुक्रवार को धामी सरकार ने चार धाम यात्रा के दौरान प्रत्येक धाम में प्रतिदिन के लिए श्रद्धालुओं की संख्या सीमित रखने के संबंध में पूर्व में लिए गए निर्णय को वापस ले लिया। अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने इस बाबत आदेश जारी किए और शासन से जुड़े अधिकारियों के अलावा मंडलायुक्त जिलाधिकारी तथा जिले के वरिष्ठ अधिकारियों को भी यह पत्र भेजा गया है।

जारी पत्र में कहा गया कि यात्रा काल में रजिस्ट्रीकरण ऑनलाइन एवं ऑफलाइन प्रक्रिया पूर्णता जारी रहेगी क्योंकि यह व्यवस्था यात्रियों की ट्रैकिंग में मददगार साबित होगी। यात्रा के दौरान यात्रियों की सुरक्षा एवं सुविधा का पूर्ण ध्यान रखा जाएगा एवं भीड़ को नियंत्रित करने हेतु स्थानीय स्तर पर आवश्यकतानुसार व्यवस्था की जाएगी।

15 लाख के पार पहुंचा पंजीकरण का आंकड़ा

श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए इस वर्ष पर्यटन विभाग ने  फरवरी से पंजीकरण शुरू कर दिया था। अभी तक यात्रा के लिए 15 लाख से अधिक यात्रियों ने पंजीकरण करा लिया है। जिसमें केदारनाथ धाम में 5.41 लाख, बद्रीनाथ धाम में 4.56 लाख, गंगोत्री धाम में 2.77 लाख जबकि यमुनोत्री धाम के लिए 2.40 लाख यात्री पंजीकरण करा चुके हैं।

Editorial

This article was written by the Hindu Live editorial team.

Related Articles

Back to top button